‘जाति की जड़ता जाये तो उसके जाने का जश्न मनायें’

‘जाति की जड़ता जाये तो उसके जाने का जश्न मनायें’

बलदेव सिंह आर्य:  जन्मदिन (12 मई) पर विशेष डॉ. अरुण कुकसाल उत्तराखंड के शिल्पकार वर्ग में सामाजिक-शैक्षिक चेतना के अग्रदूत बलदेव सिंह आर्य (12 मई, 1912 से 22 दिसम्बर, 1992) का आज जन्मदिन है. सन् 1930 में 18 वर्ष की किशोरावस्था में निरंकुश बिट्रिश सत्ता का सार्वजनिक विरोध करके 18 महीने की जेल को सर्हष […]

Read More