जनता की अदालत में जा रहा हूं, फैसला भी जनता ही करेगी : गणेश गोदियाल 

0
22

देहरादून: कांग्रेस ने गणेश गोदियाल को पौड़ी लोकसभा सीट से मैदान में उतारा है। गणेश गोदियाल आज कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। जिस तरह से कार्यकर्ता एकजुट नजर आए। उनका उत्साह बता रहा था कि इस बार आर-पार की लड़ाई के लिए तैयार हैं।

गणेश गोदियाल वैसे तो हमेशा से ही सकारात्मक सोच के नेता रहे हैं। लेकिन, टिकट मिलने के बाद पहली बार देहरादून प्रदेश कार्यालय में पहुंचने के बाद उनके हाव-भाव में विश्वास नजर आ रहा था। उनका कहना है कि वो जनता की अदालत में जा रहे हैं।

जनता ही तय करेगी कि गणेश गोदियाल उनकी आवाज संसद में मजबूती से उठा सकते हैं या नहीं? उनका कहना है कि फैसला जनता को करना है। चुनाव जनता के मुद्दों पर लड़ा जाएगा। हम पूरी ताकत के साथ चुनावी समर में उतरेंगे।

गढ़वाल सीट से लोकसभा प्रत्याशी गणेश गोदियाल का कहना है कि उत्तराखंड की बेटी अंकिता को अब तक न्याय नहीं मिला है। अंकिता को न्याय देने के बजाय विधानसभा में उस पर हंसने वाले कौरवों की तरह हैं। इतिहास गवाह है कि कौरवों ने कितनि जोर लगाया, लेकिन धर्म को नहीं हरा पाए। ऐसा ही इस बार भी होने वाला है।

गणेश गोदियाल नका कहना है कि यह मेरा चुनाव नहीं है। यह जनता का चुनाव है। कार्यकर्ताओं से पूरी ताकत से जुटने का आह्वान करते हुए कहा कि मैं आपकी आवाज को संसद में आंखों में आंखें डालकर उठाऊंगा।

उन्होंने यह मनीष खंडूड़ी के भाजपा शामिल होने को लेकर कहा कि यह उनका व्यक्तिगत फैसला है। मनीष खंडूड़ी को पूरा समर्थन दिया। उनको हमेशा आगे खड़ा करने का काम किया।

परिचय

  • आयु: 57 वर्ष
  • पिता: स्वर्गीय सत्य प्रसाद
  • पत्नी: सुनीता गोदियाल
  • शिक्षा: स्नातक 
  •  निवासी: ग्राम बहेड़ी, जिला पौड़ी
  • टिकट का आधार
  • गढ़वाल संसदीय क्षेत्र में लगातार सक्रिय 
  • विनम्र और मिलनसार व्यक्तित्वl
  • संगठन और कार्यकर्ताओं में पैठl

राजनीतिक सफर

2002 में पौड़ी के थलीसैंण विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए। 2012 में श्रीनगर विधानसभा क्षेत्र से जीत दर्ज कर विधानसभा पहुंचे। 2021 में कांग्रेस ने गोदियाल को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी। 2023 से गोदियाल कांग्रेस कार्यसमिति के विशेष आमंत्रित सदस्य हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here