नारी संवेदनाओं का हृदयस्पर्शी स्वर गोपाल बाबू गोस्वामी

0
565

जन्मदिवस (2 फरवरी ) पर विशेष

  • डॉ. मोहन चंद तिवारी

आज 2 फरवरी उत्तराखंड सुर सम्राट स्वर्गीय गोपाल बाबू गोस्वामी का जन्म दिवस है. यह जानकर हर्ष हो रहा है कि उनके पुत्र रमेश बाबू गोस्वामी द्वारा चौखुटिया स्थित because चांदीखेत,वैराठेश्वर में गोस्वामी जी की 79वीं जन्म जयंती बडे धूमधाम से मनाई जा रही है. इस अवसर पर विभिन्न स्थानों से लोक कलाकार इस समारोह में उपस्थित हो कर गोस्वामी जी के कलात्मक योगदान को पुनः ताजा करेंगे. इस अवसर पर गोस्वामी परिवार को भजन सम्राट अनूप जलोटा ने बधाई देते हुए एक वीडियो संदेश भेजा है,जिसमें उन्होंने उत्तराखंड के स्वर सम्राट गोपाल बाबू गोस्वामी को याद करते हुए उनके परिवार को कार्यक्रम की शुभकामनाएं दी हैं. प्रत्येक वर्ष दो फरवरी को गोस्वामी परिवार के परिजन स्वर्गीय गोपाल बाबू गोस्वामी का जन्म उत्सव पैतृक गांव चांदीखेत में बड़े धूमधाम से मनाता है.

चौखुटिया

पहाड़ के संघर्षों और कठोर परिस्थितियों से उभरे उनके सुरीले गीत आज भी हमारे लोक सांस्कृतिक अहसास को संतृप्त करते हैं, कभी गुदगुदाते हैं तो कभी कभी कचोटते भी हैं. so गोपाल बाबू गोस्वामी के गीतों ने पर्वतीय लोक संस्कृति के हर पहलू को छुआ है खासकर दु:ख, पीड़ाओं के अम्बार को झेलती प्रोषित नायिका की भांति नारी का दर्द उनके गीतों का मुख्य स्वर रहा है.

चौखुटिया

उत्तराखंड गौरव गोपाल बाबू भले ही आज हमारे बीच नहीं हैं परंतु पहाड़ से पलायन के इस दौर में उनके द्वारा गाए हुए ‘घुघुती ना बांसा’, ‘कैले बाजे मुरूली’ जैसे गीतों की याद से बरबस पहाड़ से बिछड़ने की वेदनाएं मार्मिक रूप से उभरने लगती हैं. गायक गोपाल बाबू गोस्वामी की कला साधना उत्तराखण्ड की महान धरोहर है. but उनके द्वारा गाए गीतों में पहाड़ की लोक संस्कृति और उससे उभरी समस्याओं की असली लोकपीड़ा भी अभिव्यक्त हुई है. पर्वतीय जनजीवन में पहाड़, नदी, पेड़, पौधे और घुघुती आदि उनके सुख दुःख के पर्यावरण मित्र हैं. ये ही वे पांच तत्त्व हैं जिनसे किसी कविता या गीत की आत्मा बनती है,जिसे हम शास्त्रीय भाषा में लोकगीत कह देते हैं. बाद में मेले त्योहारों में इनकी सामूहिक प्रस्तुति झोड़े, चांचरी,भगनौल,आदि का रूप धारण करके ये लोक संस्कृति का रूप धारण कर लेते हैं.

चौखुटिया

पर्वतीय जनजीवन स्वभाव से ही प्रकृति की गोद में रचा बसा अत्यंत पीड़ादायक संघर्षपूर्ण जीवन है जिसकी व्यथा सर्वाधिक पहाड़ की नारी को ही सहनी पड़ती है. ससुराल हो या मायका उसके दर्द और विरह की वेदना गोपाल बाबू के गीतों में घुघुती की आवाज बनकर जिस प्रकार अभिव्यक्त हुई है वैसी मार्मिक अभिव्यक्ति अन्य because गीतकारों द्वारा नहीं उभर पाई है. पहाड़ के संघर्षों और कठोर परिस्थितियों से उभरे उनके सुरीले गीत आज भी हमारे लोक सांस्कृतिक अहसास को संतृप्त करते हैं, कभी गुदगुदाते हैं तो कभी कभी कचोटते भी हैं. गोपाल बाबू गोस्वामी के गीतों ने so पर्वतीय लोक संस्कृति के हर पहलू को छुआ है खासकर दु:ख, पीड़ाओं के अम्बार को झेलती प्रोषित नायिका की भांति नारी का दर्द उनके गीतों का मुख्य स्वर रहा है. शायद उन्हें नारी के प्रति इस संवेदना की अनुभूति अपने ही घर परिवार से मिली होगी.

चौखुटिया

लोक गायक गोपाल बाबू गोस्वामी का जन्म 2 फरवरी 1942 को पिता मोहन गिरी व माता चनुली देवी के घर हुआ था. उनका जन्म स्थान अल्मोडा जनपद के पाली पछाऊँ तहसील, because पट्टी गेवाड चौखुटिया, ग्राम चाँदीकोट है. उनकी प्रारंभिक शिक्षा चौखुटिया में ही हुई लेकिन जब वह छोटे ही थे तो उनके पिता का देहावसान हो गया. पिता की मृत्यु के बाद वह काम की तलाश में गांव से दिल्ली आ गये और कई वर्षों तक नौकरी तलाशते रहे. पिता की मृत्यु के बाद अपनी माँ और बहन राधा की पूरी जिम्मेवारी गोपाल पर आ गयी. मार्गदर्शक या देखभाल करने because वाला कोई न होने के कारण भी अपनी मां और बहन को जीवन यापन की कठिनाइयों से जूझते हुए और संघर्ष करते हुए उन्होंने अपनी आंखों से देखा था. इसलिए गोपाल बाबू के गीतों में नारी संवेदना की मार्मिक अभिव्यक्ति बहुत सशक्त रूप से हुई है. बचपन से ही गीतकार बनने के जुनून में 12 साल की उम्र से ही गोपाल बाबू गीत लिखने और गाने लगे थे. कई छोटे-मोटे काम किये लेकिन कोई स्थायी नौकरी नहीं मिली.

चौखुटिया

जीवन के 54 सालों में उन्होंने साढे़ पांच सौ से भी अधिक गीत लिखे हैं तथा उनके द्वारा गाये गये सदाबहार गीतों ने कुमाउंनी लोक संस्कृति को गौरवान्वित करने के साथ साथ एक कलात्मक सांस्कृतिक पहचान भी दी है.

चौखुटिया

1970 में गीत एवं नाट्य प्रभाग नैनीताल का एक दल चौखुटिया एक कार्यक्रम के सिलसिले में आया हुआ था तो यहीं इस दल के कुछ सदस्यों का परिचय गोपाल से हुआ और वह उनके गायन प्रतिभा से प्रभावित हुए बिना न रह सके. 1971 में गोपाल गोस्वामी को गीत और नाटक प्रभाग, नैनीताल में एक गायन कलाकार के रूप में चुन लिया गया. because भारत सरकार के गीत और नाटक प्रभाग में नियुक्ति के बाद गोस्वामी को अपनी प्रतिभा दिखाने का अच्छा मंच मिल गया था. यहीं से उनकी लोक गायक के रूप में लोकप्रियता बढ़ती चली गई. उन्होंने आकाशवाणी लखनऊ से अपना पहला गीत “कैले बाजे मुरूली ओ बैणा, ऊँची ऊँची डान्यू मा” गाया जो देश विदेशों में भी बहुत लोकप्रिय हुआ.

चौखुटिया

गोपाल बाबू के गाए सभी गाने तब बहुत लोकप्रिय होने लगे. 1976 में गोपाल बाबू ने अपना पहला कैसेट एच.एम.वी. कंपनी से निकाला जो बहुत चला. जनवरी के महीने में हल्द्वानी में होने वाले उत्तरायणी मेले में निकलने वाले जुलूस में हज़ारों की भीड़ उनके पीछे पीछे उनके सुर में सुर मिला कर चला करती थी.because “कैले बाजै मुरूली”, “भुरु भुरु उज्याव है गो”, “घुघूती ना बासा” और “रुपसा रमोती” जैसे गाने तब खूब चाव से सुने जाते थे और आज भी ये गाने इतने लोकप्रिय हैं कि इनके अब रीमिक्स भी निकलने लगे हैं. जीवन के 54 सालों में उन्होंने साढे़ पांच सौ से भी अधिक गीत लिखे हैं तथा उनके द्वारा गाये गये सदाबहार गीतों ने कुमाउंनी लोक संस्कृति को गौरवान्वित करने के साथ साथ एक कलात्मक सांस्कृतिक पहचान भी दी है.

चौखुटिया

दरअसल, गोपाल बाबू गोस्वामी की because एल्बम के कुछ सदाबहार गीत ऐसे हैं, जिनमें उत्तराखंड की लोक संस्कृति में प्रमुख भूमिका का निर्वाह करनेवाली नारी विषयक सहानुभूति और सांत्वना के स्वर एक सहृदय के आंखों में आंसु ला देते हैं. ‘न रो चेली न रो मेरी लाल, जा चेली जा सरास’ हर किसी को रूला देने वाला दुल्हन की विदाई का उनका अत्यंत ही मार्मिक स्वर है तथा दुल्हन की विदाई के समय इस गीत के बोल उस क्षण को कितना गमगीन और करुणामय बना देते हैं इसका अहसास हम सब को किसी भी विवाह कार्यक्रम में होता आया है.

“संभल संभल पग धरियो रे लाडो देश बिराना जाना है.” जैसे गीतों में पहाड़ की विवाहिता बेटी के लिए पिता द्वारा विदाई के समय जो एक सन्देश दिया गया है वह भी बहुत हृदयस्पर्शी है.because “भुरु भुरु उज्याव है गो” गीत में नारी सबसे पहले पनघटों से पानी भरते दिखाई देती है तो खेत खलिहान भी उसी के कठोर प्रयास से हरे भरे रहते हैं. नारी के इस कर्मयोगी जीवन दर्शन को गोपाल बाबू के गीतों में मार्मिक अभिव्यक्ति मिली है. उनका एक बहुत ही लोकप्रिय गाना है “काली गंगा को कालो पाणी”.इसमें विरह से तड़पती पहाड़ की नारी की उदासी की पीड़ा (निशास) को बालू की तपती रेत में तड़पती मछली की तरह व्यक्त किया गया है –

चौखुटिया

“माछी ले फटक because मारी बलुवा माटी मा !
तुम बिना निशासी गयूं, हौसिया घाट्यूं मा !!
काली गंगा को कालो पाणी,
कैलो कैलो, छैलो छैलो,”

हिन्दी के महान कवि सुमित्रानंदन पंत because ने कविता के उद्गम के बारे में कहा है कि-

चौखुटिया

“वियोगी होगा पहला कवि,
आह से उपजा होगा गान,
निकलकर आँखों से चुपचाप,
बही होगी कविता अनजान.”

चौखुटिया

अपने प्रिय से बिछुड़ने की पीड़ा ही है जो ‘मेघदूत’ जैसी कालजयी रचनाओं और अमर गीतों को जन्म देती है. महाकवि कालिदास द्वारा रचित खंड-काव्य ‘मेघदूत’ में ऐसे ही एक विरह की घनीभूत पीड़ा से उद्भूत नारी वियोग के मनोविज्ञान का उल्लेख आया है जिसके अनुसार नारियों के फूल की तरह सुकुमार प्रेम भरे हृदय को प्रिय-मिलन की आशा का बन्धन विरह में भी सांत्वना देते रहता है-

चौखुटिया

“आशाबन्ध: कुसुमसदृशं प्रायशो ह्यङ्गनानां.
सद्य:पाति प्रणयि हृदयं विप्रयोगे रुणद्धि..”
                    -मेघदूत,पूर्वमेघ,10               

लगभग उसी नारी वियोग के मनोवैज्ञानिक धरातल पर उकेरती गोपाल बाबू की “काली गंगा को कालो पाणी” की ये because पंक्तियां भी पहाड़ों में संघर्ष करती हुई नारी का प्रतिक्षण मुस्कराता चेहरा आकाश में चांदनी की तरह चमक रहा है. मगर प्रिय-मिलन की आशा में उसका विरही मन उदास बैठा है यहां “आस में निशासी गो छो यो विरही मना” की तड़पन ‘मेघदूत’ के समतुल्य ही जान पड़ती हैं-

चौखुटिया

“मुलमुल हसी रे सुवा आगासै की जून.
आस में निशासी गो छो यो विरही मना,
काली गंगा को कालो पाणी,
कैलो कैलो, छैलो छैलो,”

गोपाल बाबू ने “आमकी डाई मा घुघती न because बासा” जैसे विरह गीत को जो विप्रलम्भ श्रृंगार की रसमयता प्रदान की है और उसे देशभक्ति की भावना से जोड़ने का जो प्रयास किया है,वह भी एक अद्भुत मार्मिक अभिव्यक्ति है-

“उडी जा ओ घुघती नहै जा लद्दाका,
हाल म्यर बत दिए म्यार स्वामी पासा.”

चौखुटिया

उत्तराखंड के प्रसिद्ध लोक गायक because नरेंद्र सिंह नेगी भी गोपाल बाबू के गीतों के बडे़ दीवाने हैं. वह गोपाल बाबू के गीत ‘हिमालाको ऊंचा डाना प्यारो मेरो गांव, छविलो गढ़वाल मेरो रंगीलो कुमाऊं’ को अक्सर गुनगुनाते हैं. नारी सौंदर्य पर लिखा उनका गीत ‘हाय तेरी रूमाला गुलाबी मुखड़ी के भली छाजीरे  नाखेकी नथूली,’ सूर्योदय के समय पति द्वारा पत्नी को जगाने का व्यंग्य गीत ‘उठ सुवा उज्याऊ हैगो चमचमाक घामा’ लोगों द्वारा बहुत पसंद किए गए हैं.

चौखुटिया

अपने जीवन के अंतिम पड़ाव में गोपाल बाबू को ब्रेन ट्यूमर हो गया था. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली में आपरेशन करवाने के बाद भी भी वे स्वस्थ नहीं हो सके. 26,नवम्बर 1996 को उनका असामयिक निधन हो गया और हमने खो दिया एक लोकगायक, एक मधुर स्वर और एक उत्तराखंड की महान धरोहर.

चौखुटिया

गोस्वामी जी का कंठ मधुर था वे ऊंचे पिच के गीत गाने में विशेष माहिर थे. उन्होंने कुछ युगल कुमाउनी गीतों के भी कैसेट बनवाए . गीत और नाटक प्रभाग की गायिका श्रीमती चंद्रा बिष्ट के साथ उन्होंने लगभग 15 कैसेट बनवाए. गोस्वामी जी ने कुछ कुमाउंनी तथा हिंदी पुस्तकें भी लिखी थी जिनमें से मुख्य रूप से “गीत माला (कुमाउंनी)” “दर्पण” “राष्ट्रज्योती (हिंदी)” तथा “उत्तराखण्ड” आदि उल्लेखनीय हैं. उनकी  एक पुस्तक “उज्याव” प्रकाशित नही हो पाई. उनके द्वारा गाए अधिकांश कुमाउंनी गाने स्वरचित थे. मालूशाही तथा हरुहित के भी उन्होंने कैसेट बनवाए थे.

चौखुटिया

अपने जीवन के अंतिम पड़ाव में गोपाल बाबू को ब्रेन ट्यूमर हो गया था. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली में आपरेशन करवाने के बाद भी भी वे स्वस्थ नहीं हो सके. 26,नवम्बर 1996 को उनका असामयिक निधन हो गया और हमने खो दिया एक लोकगायक, एक मधुर स्वर और एक उत्तराखंड की महान धरोहर. गोपाल बाबू गोस्वामी आज भले ही हमारे बीच नहीं रहे पर उनका मधुर स्वर ‘कैले बजै मुरूली ओ बैणा’ पहाड़ की गिरि कंदराओं में सदा गूंजता रहेगा. लोकगायक गोपाल बाबू गोस्वामी की 79वीं जन्मजयंती के उपलक्ष्य में उन्हें शत शत नमन.

चौखुटिया

(लेखक दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज से एसोसिएट प्रोफेसर के पद से सेवानिवृत्त हैं. एवं विभिन्न पुरस्कार व सम्मानों से सम्मानित हैं. जिनमें 1994 में ‘संस्कृत शिक्षक पुरस्कार’, 1986 में ‘विद्या रत्न सम्मान’ और 1989 में उपराष्ट्रपति डा. शंकर दयाल शर्मा द्वारा ‘आचार्यरत्न देशभूषण सम्मान’ से अलंकृत. साथ ही विभिन्न सामाजिक संगठनों से जुड़े हुए हैं और देश के तमाम पत्र—पत्रिकाओं में दर्जनों लेख प्रकाशित.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here