स्मृति-शेष

‘गिर्दा’: उत्तराखंड आंदोलन के जनकवि और युगद्रष्टा चिंतक भी

गिर्दा’ की 11वीं पुण्यतिथि पर विशेष

  • डॉ. मोहन चंद तिवारी    

22 अगस्त को उत्तराखंड आंदोलन के जनकवि, गिरीश तिवारी ‘गिर्दा’ की 11वीं पुण्यतिथि है. गिर्दा उत्तराखंड राज्य के एक आंदोलनकारी जनकवि थे,उनकी जीवंत कविताएं अन्याय के विरुद्ध लड़ने की प्रेरणा देतीं हैं. वह लोक संस्कृति के इतिहास से जुड़े गुमानी पंत तथा गौर्दा का अनुशरण करते हुए ही राष्ट्रभक्ति पूर्ण काव्यगंगा से because उत्तराखंड की देवभूमि का अभिषेक कर रहे थे. हर वर्ष मेलों के अवसर पर देशकाल के हालातों पर पैनी नज़र रखते हुए झोड़ा- चांचरी के पारंपरिक लोककाव्य को उन्होंने जनोपयोगी बनाया. इसलिए वे आम जनता में ‘जनकवि’ के रूप में प्रसिद्ध हुए.

संसाधनों

आंदोलनों में सक्रिय होकर कविता करने तथा कविता की पंक्तियों में जन-मन को आन्दोलित करने की ऊर्जा भरने का गिर्दा’ का because अंदाज निराला ही था. उनकी कविताएं बेहद व्यंग्यपूर्ण तथा तीर की तरह घायल करने वाली होती हैं-

प्राकृतिक

“बात हमारे जंगलों की because क्या करते हो,बात अपने जंगले की सुनाओ तो कोई बात करें.”

मेहनतकश लोगों की पक्षधर उनकी कविता उन भ्रष्टाचार में लिप्त नेताओं की दम्भपूर्ण मानसिकता को चुनौती देती है,जो आजादी मिलने के बाद भी मजदूर-किसानों का शोषण करते आए हैं because और अपनी भ्रष्ट नीतियों से यहां की भोली भाली जनता को पलायन के लिए विवश करते आए हैं-

स्वरूप

‘हम ओड़ बारुड़ि, ल्वार, because कुल्ली कभाड़ी,जै दिन यो दुनी बै हिसाब ल्यूंलो, एक हाङ नि मांगुल, एक फाङ न मांगुंल, सबै खसरा खतौनी हिसाब ल्यूंलो.”

उत्तराखंड राज्य आन्दोलन से अपना because नया राज्य हासिल करने पर उसके बदलाव को व्यंग्यपूर्ण लहजे में बयाँ करते हुए गिर्दा कुछ इस अंदाज से कहते हैं-

जीवन

“कुछ नहीं बदला कैसे कहूँ, दो बार because नाम बदला-अदला, चार-चार मुख्यमंत्री बदले, पर नहीं बदला तो हमारा मुकद्दर, और उसे बदलने की कोशिश तो हुई ही नहीं.”

गिर्दा राज्य की राजधानी गैरसैण क्यों चाहते थे? उसके समर्थन में वे कहते थे- “हमने गैरसैण राजधानी इसलिए माँगी थी ताकि अपनी ‘औकात’ के हिसाब से राजधानी बनाएं, छोटी सी ‘डिबिया सी’ because राजधानी, हाई स्कूल के कमरे जितनी ‘काले पाथर’ के छत वाली विधानसभा, जिसमें हेड मास्टर की जगह विधानसभा अध्यक्ष और बच्चों की जगह आगे मंत्री और पीछे विधायक बैठते, इंटर कालेज जैसी विधान परिषद्, प्रिंसिपल साहब के आवास जैसे राजभवन तथा मुख्यमंत्रियों व मंत्रियों के आवास.”

उत्तराखंड के

गिर्दा ने अपनी कविता ‘जहां न बस्ता कंधा तोड़े, ऐसा हो स्कूल हमारा’ के द्वारा देश की शिक्षा व्यवस्था के बारे में अपना नज़रिया रखा तो दूसरी ओर उत्तराखंड की सूखती नदियों और लुप्त होते जलधाराओं के बारे में भी उनकी चिंता ‘मेरि कोसी हरै गे’ के जरिए उनकी कविता नदी व पानी बचाओ आंदोलन के साथ सीधा संवाद करती है.

हिमालय के जल, जंगल because और जमीन को बचाने के लिए जीवन भर संघर्षरत गिर्दा के गीतों ने विश्व पर्यावरण की  चुनौतियों से भी संवाद किया है. आज बड़े बड़े बांधों के माध्यम से उत्तराखंड की नदियों को बिजली बेचने के लिए कैद किया जा रहा है,जिसकी वजह से नदियां सूखती जा रही हैं, वहां के नौले धारे आदि जलस्रोत सूखते जा रहे हैं. अनेक नदियों और जल संसाधनों से सुसम्पन्न उत्तराखंड हिमालय के मूल निवासी पानी की बूँद बूँद के लिए तरस रहे हैं.

वाटर हारवैस्टिंग

आज के सन्दर्भ में जब एक ओर समस्त देश  जलसंकट की विकट समस्या से ग्रस्त है तो दूसरी ओर जल जंगल का व्यापार करने वाले जल माफिया और वन माफ़िया प्राकृतिक संसाधनों का इस प्रकार निर्ममता से दोहन कर रहे हैं, जिसका सारा ख़ामियाजा पहाड़ के आम आदमी को भुगतना पड़ रहा है. उत्तराखंड में अंधविकासवाद के because नाम पर जल,जंगल और जमीन का इतना भारी मात्रा में दोहन हो चुका है कि चारों ओर कंक्रीट के जंगल बिछा दिए गए हैं और नौले, गधेरे सूखते जा रहे हैं, जिसके कारण पहाड़ के मूल निवासी पलायन के लिए मजबूर हैं.

ऐतिहासिक

गिर्दा के गीतों में उत्तराखंड के जीवन because स्वरूप प्राकृतिक संसाधनों के नष्ट होने की पीड़ा विशेष रूप से अभिव्यक्त हुई है.

दरअसल, उत्तराखंड जैसे संवेदनशील पहाड़ी राज्य के विकास की जो परिकल्पना गिर्दा ने की थी वह मूलतः पर्यावरणवादी थी. उसमें टिहरी जैसे बड़े बड़े बांधों के लिए कोई स्थान नहीं था. because आज यदि गिर्दा जीवित होते तो विकास के नाम पर पहाड़ों के तोड़ फोड़ और जंगलों को नष्ट करने के खिलाफ जन आंदोलन का स्वर कुछ और ही तीखा और धारदार होता. गिर्दा की सोच पर्यावरण के साथ छेड़-छाड़ नहीं करने की सोच थी. उनका मानना था कि छोटे छोटे बांधों और पारंपरिक पनघटों, और प्राकृतिक जलसंचयन प्रणालियों के संवर्धन व विकास से उत्तराखंड राज्य के अधूरे सपनों को सच किया जा सकता है.

रहा है

गिर्दा कहा करते थे कि हमारे यहां सड़कें इसलिए न बनें कि वह बेरोजगारी के कारण पलायन का मार्ग खोलें,बल्कि ये सड़कें घर घर में रोजगार के अवसर जुटाने का जरिया बनें. एक पुरानी कहावत है- “पहाड़ का पानी और पहाड़ की जवानी पहाड़ के काम नहीं आनी”. because गिर्दा इस कहावत को उलटना चाहते थे. वे चाहते थे कि हमारा पानी,बिजली बनकर महानगरों को ही न चमकाए बल्कि हमारे पनघटों, चरागाहों, लघु-मंझले उद्योग धंधों को भी ऊर्जा देकर खेत खलिहानों को हराभरा रखे और गांव गांव में बेरोजगार युवकों को आजीविका के साधन मुहैय्या करवाए ताकि पलायन की भेड़चाल को रोका जा सके.

वाटर हारवैस्टिंग

गिर्दा ने साहित्य जगत में अपना बहुमूल्य योगदान दिया है. वह संस्कृतिकर्मी थे, उन्होंने हिंदी, कुमाउनी, गढ़वाली में गीत लिखे हैं, जिनमें उत्तराखंड आंदोलन, चिपको आंदोलन, झोड़ा, because चांचरी, छपेली व जागर आदि के माध्यम से समाज को परिवर्तित करने पर बल दिया गया है. वे हमेशा समाज में सामाजिक, सांस्कृतिक व राजनीतिक रूप से सक्रिय रहे थे.लोककवि गिर्दा एक अजीब किस्म के फक्कड़ बाबा कवि थे. उनके फक्कड़ काव्य में फक्कड़पन का लहजा भी स्वयं भोगी हुई विपदाओं और कठिनाइयों से जन्मा था. वह खुद फक्कड़ होते हुए भी दूसरे फक्कड़ों की मदद करने का जज़्बा रखते थे.

चक्र चल

लखीमपुर खीरी में जब एक चोर उनकी गठरी चुरा रहा था तो उन्होंने उसे यह कहकर अपनी घड़ी भी सौप दी थी कि ‘यार, मुझे लगता है, मुझसे ज्यादा तू फक्कड़ है.’ गिर्दा ने because आजीविका के लिए लखनऊ में रिक्शा भी चलाया. उनके फक्कड़पन की एक मिसाल यह भी है कि उन्होंने मल्लीताल में नेपाली मजदूरों के साथ रह कर मेहनतकश कुली मजदूरों के दुःख दर्द को नजदीक से देखा था. भारत और नेपाल की साझा संस्कृति के प्रतीक कलाकार झूसिया दमाई को वह समाज के समक्ष लाए.

वाटर हारवैस्टिंग

हंसादत्त तिवाड़ी व जीवंती तिवाड़ी के उच्च कुलीन घर में जन्मे गिर्दा का यह फक्कड़पन ही था कि 1977 में वन आन्दोलन को प्रोत्साहित करने के लिए ‘हुड़का’ बजाते हुए सड़क पर because आंदोलनकारियों के साथ कूद पड़े. उत्तराखंड आंदोलन के दौरान भी गिर्दा कंधे में लाउडस्पीकर लगाकर ‘चलता फिरता रेडियो’ बन जाया करते थे और प्रतिदिन शाम को नैनीताल में तल्लीताल डांठ पर आंदोलन से जुड़े ताजा समाचार सुनाते थे. उनका व्यक्तित्व बहुआयामी व विराट प्रकृति का था. कमजोर और पिछड़े तपके की जनभावनाओं को स्वर प्रदान करना गिर्दा की कविताओं का मुख्य उद्देश्य था.

पूरा सामाजिक

“जैंता एक दिन त आलो वो दिन यू दुनीं में”

‘गिर्दा’ का यह गीत उत्तराखंड because आंदोलन के दौरान बहुत लोकप्रिय हुआ. इस गीत के बारे में ‘गिर्दा’ कहते हैं-

“यह गीत तो मनुष्य के मनुष्य होने की यात्रा का गीत है. मनुष्य द्वारा जो सुंदरतम् समाज भविष्य में निर्मित होगा उसकी प्रेरणा का गीत है यह, उसका खाका भर है. इसमें अभी because और कई रंग भरे जाने हैं मनुष्य की विकास यात्रा के. इसलिए वह दिन इतनी जल्दी कैसे आ जायेगा. इस वक्त तो घोर संकटग्रस्त-संक्रमणकाल से गुजर रहे है नां हम सब.लेकिन एक दिन यह गीत-कल्पना जरूर साकार होगी इसका विश्वास है और इसी विश्वास की सटीक अभिव्यक्ति वर्तमान में चाहिए, बस.”

वाटर हारवैस्टिंग

गिर्दा चाहते थे कि सरकारें व राजनीतिक दल अपने राजनैतिक स्वार्थों और सत्ता भोगने की लालसा से ऊपर उठकर नए राज्य की उन  जन-आकांक्षाओं और अपेक्षाओं को पूरा करें because जिसके लिए एक लम्बे संघर्ष के बाद उत्तराखंड राज्य का निर्माण हुआ था. पर विडंबना यह रही कि उत्तराखंड राज्य आन्दोलन के लम्बे संघर्ष के बाद राजनेताओं ने इस राज्य की जो बदहाली की उससे सुराज्य का सपना देखने वाले इस स्वप्नद्रष्टा कवि का सपना टूट गया. गिर्दा की कविताओं में इस अधूरे सपनों का दर्द भी छलका है.वे कहा करते थे-

उत्पाद है

“हम भोले-भाले पहाड़ियों because को हमेशा ही सबने छला है. पहले दूसरे छलते थे और अब अपने छल रहे हैं.”

उन्हें इस बात का भी मलाल रहा कि because हमने देश-दुनिया के अनूठे ‘चिपको आन्दोलन’ वाला वनान्दोलन लड़ा, इसमें हमें कहने को जीत मिली, लेकिन सच्चाई कुछ और थी.

सामाजिक

दरअसल, गिर्दा को आखिरी दिनों में यह टीस बहुत कष्ट पहुंचाती रही कि शासन सत्ता ने उत्तराखंड राज्य  के आंदोलनकारियों के कंधे का इस्तेमाल कर अपने शासकीय अधिकारों को तो मजबूत किया किंतु आंदोलन में साथ दे रहे पहाड़वासियों से उनके जल, जंगल, जमीन से जुड़े मौलिक अधिकार छीन लिए. उनके अनुसार 1972 में वन because आदोलन शुरू होने के पीछे लोगों की मंशा वनों से जीवन-यापन के लिए अपने अधिकार लेने की लड़ाई थी. सरकार स्टार पेपर मिल सहारनपुर को कौड़ियों के भाव यहां की वन संपदा लुटा रही थी. स्थानीय जनता ने इसके खिलाफ आंदोलन किया, लेकिन बदले में पहाड़वासियों को जो वन अधिनियम मिला,उसके तहत जनता अपनी भूमि के निजी पेड़ों तक को नहीं काट सकती है किन्तु अपने जीवन यापन की जरूरतों को पूरा करने के लिए उसे गिनी चुनी लकड़ी लेने के लिए भी मीलों दूर जाना पड़ता है.

संस्कृति

सरकार के इस रवैये के कारण आमजनता का अपने वनों से आत्मीयता का रिश्ता खत्म हो गया है और उन्हें सरकारी सम्पत्ति की because निगाह से देखा जाने लगा है. सरकारी वन अधिनियम से वनों का कटना नहीं रुका, उल्टे वन विभाग और बिल्डर माफिया इन वनों को वेदर्दी से काटने लगे. पत्रकार जगमोहन ‘आज़ाद’ से बातचीत के दौरान ‘गिर्दा’ अपनी लोक-संस्कृति की सोच को स्पष्ट करते हुए कहते हैं-

कीर्तन

“लोक-संस्कृति सामाजिक उत्पाद है, पूरा सामाजिक चक्र चल रहा है, ऐतिहासिक चक्र चल रहा है और इस चक्र में जो पैदा होता है वही तो हमारी संस्कृति है. संस्कृति का मतलब because खाली मंच पर गाना या कविता लिख देना, घघरा और पिछोड़ा पहने से संस्कृति नहीं बनती है. संस्कृति तो जीवन शैली है, वह तो सामाजिक उत्पाद है. जिन-जिन मुकामों से मनुष्य की विकास यात्रा गुजरती है, उन-उन मुकामों के अवशेष आज हमारी संस्कृति में मौजूद है,यही तो ऐतिहासिक उत्पाद हैं जिन्हें इतिहास ने जन्म दिया है.”

वाटर हारवैस्टिंग

हिन्दी लोक साहित्य हो या because कुमाउँनी लोक साहित्य, लोक संस्कृति से सम्बद्ध तथ्यात्मक समग्र जानकारी उनके पास होती थी. इसलिए उन्हें कुमाऊंनीं लोक साहित्य और संस्कृति का ‘जीवित एनसाइक्लोपीडिया’ भी माना जाता था. उत्तराखंड संस्कृति के बारे में ‘गिर्दा’ कहते हैं-

वाटर हारवैस्टिंग

“हमारी संस्कृति मडुवा, मादिरा, जौं और गेहूं के बीजों को भकारों, कनस्तरों और टोकरों में बचाकर रखने, मुसीबत के समय के लिए पहले प्रबंध करने और स्वावलंबन की रही है, because यह केवल ‘तीलै धारु बोला’ तक सीमित नहीं है. आखिर अपने घर की रोटी और लंगोटी ही तो हमें बचाऐगी. गांधी जी ने भी तो ‘अपने दरवाजे खिड़कियां खुली रखो’ के साथ चरखा कातकर यही कहा था. वह सब हमने भुला दिया. आज हमारे गांव रिसोर्ट बनते जा रहे हैं. नदियां गंदगी बहाने का माध्यम बना दी गई हैं. स्थिति यह है कि हम दूसरों पर आश्रित हैं, और अपने दम पर कुछ माह जिंदा रहने की स्थिति में भी नहीं हैं.”

सबद

गिर्दा‘ का जन्म 10 सितम्बर, 1945 को अल्मोड़ा जिले के हवालबाग के ज्योली तल्ला स्यूनारा में हुआ था. उनके द्वारा रचित बहुचर्चित  रचनाएँ हैं- ‘जंग किससे लिये’ because (हिंदी कविता संकलन), ‘जैंता एक दिन तो आलो’’ (कुमाउनी कविता संग्रह), ‘रंग डारि दियो हो अलबेलिन में’ (होली संग्रह), ‘उत्तराखंड काव्य’, ‘सल्लाम वालेकुम’ इत्यादि. इनके अतिरिक्त दुर्गेश पंत के साथ उनका ‘शिखरों के स्वर’ नाम से कुमाऊनीं काव्य संग्रह, व डा. शेखर पाठक के साथ ‘हमारी कविता के आखर’ आदि पुस्तकें भी प्रकाशित हुईं हैं. गिर्दा नैनीताल समाचार, पहाड़, because जंगल के दावेदार, जागर, उत्तराखंड नवनीत आदि पत्र-पत्रिकाओं से भी सक्रिय होकर जुड़े रहे. एक नाट्यकर्मी के रूप में गिर्दा ने नाट्य संस्था युगमंच के तत्वाधान में ‘नगाड़े खामोश है’ तथा ‘थैक्यू मिस्टर ग्लाड’ का निदेशन भी किया.

गुरुद्वारों के

‘गिर्दा’ एक प्रतिबद्ध रचनाधर्मी सांस्कृतिक व्यक्तित्व थे. गीत, कविता, नाटक, लेख, पत्रकारिता, गायन, संगीत, निर्देशन, अभिनय आदि, यानी संस्कृति का कोई आयाम उनसे से छूटा नहीं था. मंच से लेकर फिल्मों तक में लोगों ने ‘गिर्दा’ की क्षमता का लोहा माना. उन्होंने ‘धनुष यज्ञ’ और ‘नगाड़े खामोश हैं’ जैसे कई because नाटक लिखे, जिससे उनकी राजनीतिक दृष्टि का भी पता चलता है. ‘गिर्दा’ ने नाटकों में लोक और आधुनिकता के अद्भुत सामंजस्य के साथ अभिनव प्रयोग किये और नाटकों का अपना एक पहाड़ी मुहावरा गढ़ने की कोशिश की.

की प्रार्थनाओं

पहाड़ी पारम्परिक होलियों को भी because गिरदा ने न केवल एक नया आयाम दिया, बल्कि अपनी प्रयोगधर्मी दृष्टि से सामयिक मूल्यों से जोड़ने का प्रयास भी किया. इसी संदर्भ में जल समस्या से जुड़ी ‘गिर्दा’ की ‘इस व्योपारी को प्यास बहुत है’ शीर्षक से लिखी गई एक होली की पैरोडी बहुत लोकप्रिय है-

इस व्योपारी को प्यास बहुत है
“एक तरफ बर्बाद बस्तियाँ
एक तरफ हो तुम.
एक तरफ डूबती कश्तियाँ
एक तरफ हो तुम.
एक तरफ हैं सूखी नदियाँ
एक तरफ हो तुम.
एक तरफ है प्यासी दुनियाँ
एक तरफ हो तुम.

के मन्दिरों

अजी वाह! क्या बात तुम्हारी,
तुम तो पानी because के व्योपारी,
खेल तुम्हारा, because तुम्हीं खिलाड़ी,
बिछी हुई ये but बिसात तुम्हारी,
सारा पानी so चूस रहे हो,
नदी-समन्दर because लूट रहे हो,
गंगा-यमुना because की छाती पर,
कंकड़-पत्थर कूट रहे हो,

तरह नैनीताल

उफ! तुम्हारी ये खुदगर्जी,
चलेगी कब तक because ये मनमर्जी,
जिस दिन डोलगी because ये धरती,
सर से निकलेगी because सब मस्ती,
महल-चौबारे but बह जायेंगे,
खाली रौखड़ so रह जायेंगे,
बूँद-बूँद को because तरसोगे जब,
बोल व्योपारी,so तब क्या होगा?
नगद-उधारी, but तब क्या होगा?

बाद जिस

आज भले ही मौज उड़ा लो,
नदियों को because प्यासा तड़पा लो,
गंगा को because कीचड़ कर डालो,
लेकिन because डोलेगी जब धरती,
बोल because व्योपारी तब क्या होगा?

देहावसान

वर्ल्ड बैंक के टोकनधारी,
तब क्या होगा?
योजनकारी तब क्या होगा?
नगद-उधारी तब क्या होगा?
एक तरफ हैं सूखी नदियाँ,
एक तरफ हो तुम.
एक तरफ है प्यासी दुनियाँ,
एक तरफ हो तुम.”

जीवन भर हिमालय के जल, जंगल और जमीन को बचाने के लिए संघर्षरत गिर्दा के गीतों ने सारे विश्व को दिखा दिया कि मानवता के अधिकारों की आवाज बुलंद करने वाला कवि किसी जाति, सम्प्रदाय, प्रान्त या देश तक सीमित नहीं होता. उनकी because अन्तिम यात्रा में ‘गिर्दा’ को जिस प्रकार अपार जन-समूह ने अपनी भावभीनी अन्तिम विदाई दी उससे भी पता चलता है कि यह जनकवि किसी एक वर्ग विशेष का नही बल्कि वह सबका हित चिंतक होता है.

गिर्दा के

गिर्दा के देहावसान के बाद जिस तरह नैनीताल के मन्दिरों की प्रार्थनाओं,गुरुद्वारों के सबद कीर्तन और मस्जिदों में नमाज के बाद उनका प्रसिद्ध गीत “आज हिमालय तुमन कँ धत्यूँछ, because जागो, जागो हो मेरा लाल”  के स्वर बुलन्द हुए, उन्हें सुन कर एक बार फिर यह अहसास होने लगता है कि धार्मिक कर्मकांड की विविधता के बावजूद हम मनुष्यों की जल,जंगल और जमीन से जुड़ी समस्याएं तो समान हैं. उनके अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाला कोई ‘गिर्दा’ जैसा फक्कड़  जनकवि जब विदा लेता है तो पीड़ा होती ही है. बस केवल रह जाती हैं तो उसके गीतों की ऊर्जा प्रदान करने वाली भावभीनी यादें-

हारवैस्टिंग

“ततुक नी लगा उदेख‚ घुनन मुनई न टेक.
जैंता एक दिन त आलो वो दिन यू दुनीं में..”

जनकवि गिरीश तिवारी ‘गिर्दा’ को उनकी 11वीं पुण्य तिथि पर शत शत नमन!!

(लेखक दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज से एसोसिएट प्रोफेसर के पद से सेवानिवृत्त हैं. एवं विभिन्न पुरस्कार व सम्मानों से सम्मानित हैं. जिनमें 1994 में ‘संस्कृत शिक्षक पुरस्कार’, 1986 में ‘विद्या रत्न सम्मान’ और 1989 में उपराष्ट्रपति डा. शंकर दयाल शर्मा द्वारा ‘आचार्यरत्न देशभूषण सम्मान’ से अलंकृत. साथ ही विभिन्न सामाजिक संगठनों से जुड़े हुए हैं और देश के तमाम पत्रपत्रिकाओं में दर्जनों लेख प्रकाशित।)

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *