दिल्ली-एनसीआर

2024 तक दिल्ली के हर घर में होगा बजरंगी: विश्व हिंदू परिषद

2024 तक दिल्ली के हर घर में होगा बजरंगी: विश्व हिंदू परिषद
  • हिमांतर ब्यूरो, नई दिल्ली

विश्व हिंदू परिषद, दिल्ली प्रांत द्वारा प्रांतीय बैठक का आयोजन दिल्ली के मयूर विहार स्थित उत्तरा गुरुवायुरप्पन मंदिर में 7 व 8 जनवरी 2022 को किया गया. इस बैठक में बड़ी संख्या में दिल्ली विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने शिरकत की और इस बैठक को सफल बनाया.  2024 तक दिल्ली के हर घर में एक बजरंगी हो, यह संकल्प विश्व हिंदू परिषद दिल्ली की इस दो दिवसीय अर्धवार्षिक बैठक में लिया गया.

इस बैठक में विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ सुरेंद्र जैन ने खचाखच भरे हॉल में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि हिंदुओं ने प्रभु श्री राम की जन्मभूमि के लिए बलिदान दिया, इसी की परिणति है कि आज अयोध्या में भव्य राम मंदिर बन रहा है. दिल्ली का कोई भी हिंदू अपने आप को अकेला महसूस ना करें. एक बड़ा तबका हिंदुओं के खिलाफ गलत नैरेटिव बनाने के लिए कार्य करता है. टुकड़े- टुकड़े गैंग के लोग हिंदुओं के खिलाफ कार्य कर रहे हैं. देश के मुसलमान सड़कों व रेल की पटरियों पर बैठकर आज भी नमाज पढ़ रहे हैं. अंग्रेजों ने हिंदुओं पर बहुत अत्याचार किए इसकी एक निशानी सिर्फ पंजाब का जलियांवाला बाग ही नहीं है अपितु गोवा में ऐसे कई स्थान हैं.

उन्होंने कहा 2024 की जन्माष्टमी में विश्व हिंदू परिषद के षष्टिपूर्ति वर्ष तक हमें दिल्ली में हर घर में पहुंचना होगा हमारा कार्यकर्ता हर घर में होगा. इसके लिए उन्होंने कार्यकर्ताओं से प्रत्येक मंगलवार हर क्षेत्र में एक महा चालीसा करने का आह्वान किया.

विश्व हिंदू परिषद दिल्ली के प्रांत अध्यक्ष कपिल खन्ना ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना काल के बाद इतनी बड़ी संख्या में हम पहली बार एकत्रित हुए हैं. एक तरफ हम करोना में सेवा कार्य कर रहें थे तो दूसरी तरफ जिहादी व मिशनरी लोगों का धर्म परिवर्तन करवाने में लगे थे. आज आप सब को इतनी संख्या में देखकर यह विश्वास हो रहा है कि हमने जो लक्ष्य तय किया है वह अगले डेढ़ वर्ष में यानी 2024 की जन्माष्टमी तक हम दिल्ली के हर घर में एक बजरंगी अवश्य बना लेंगे.

आचार्य राम मंगल दास जी ने उपस्थित सभी कार्यकर्ताओं को गौ सेवा करने की प्रेरणा दी और कहा की गाय माता की सेवा करते करते हम अपनी हिंदू संस्कृति को उच्च शिखर पर ले जाने के लिए कार्य करें तभी भारत विश्व गुरु सकेगा. इस बैठक में उपस्थित कार्यकर्ताओं को विश्व हिंदू परिषद के क्षेत्रीय संगठन मंत्री श्री मुकेश खांडेकर जी ने और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत कार्यवाह श्री भारत भूषण ने भी संबोधित किया.

उन्होंने कहा कि हिंदू समाज अपना अपमान कभी नहीं भुला है. हमारे ऊपर बर्बर अत्याचार किए गए थे. उन्होंने हमारे मंदिरों को तोड़ा व  हमारे पुस्तकालयों को जलाया.  श्री अरोड़ा ने आगे कहा कि आज हिंदू समाज ने पूरी दुनिया में अपनी ताकत का लोहा मनवा लिया है. जब हम देश के अरबपतियों व बड़े कारोबारियों की बात करते हैं तो उनमें अधिकतर हिंदू समुदाय के नाम आते हैं. आज खतरा देश के वामपंथियों से हैं. यह वामपंथी लोग हमारे लोगों की मानसिकता को दूसरी ओर मोड़ने की कोशिश कर रहे हैं. जातीय भेदभाव को हमें खत्म करना होगा, तभी हिंदू एकता को बल मिलेगा. राम मंदिर का सपना पूरा होने को है, हिंदू समाज अब अपने हकों की लड़ाई लड़ रहा है. सत्संग कीर्तन के माध्यम से हमें अपने बच्चों को हमारी गौरवशाली विरासत के बारे में बताना होगा.

विश्व विश्व हिंदू परिषद दिल्ली के प्रांत मंत्री सुरेंद्र गुप्ता ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि युवा ही भारत का भविष्य है और युवा ही नव भारत का निर्माण करेंगे, इसी संकल्प को विश्व हिंदू परिषद दिल्ली पूरा करेगा उन्होंने कहा षष्टिपूर्ति वर्ष के लिए हम अभी से तैयारी प्रारंभ कर दें. मकर सक्रांति और राम उत्सव के कार्यक्रम इस वर्ष इतने हो कि हिंदू नव वर्ष से पूरी दिल्ली में सब जगह राम जी का नाम हो, पूरी दिल्ली भगवामय बन जाए. हमारी बेटियां प्रशिक्षण प्राप्त करें, उनको आत्मरक्षा के गुर सिखाए जाएं, जगह-जगह बल उपासना केंद्र चलें और दुर्गा वाहिनी प्रत्येक मोहल्ले  में आत्मरक्षा के शिविर लगाएं जिससे लव जिहाद और अन्य राक्षसों से हमारे समाज की रक्षा हो सके और हमारी बेटियां को ओर कुदृष्टि डालने की हिम्मत किसी की न हो.

उन्होंने कहा अब हिंदुत्व का समय है, प्रभु श्री राम का मंदिर बनने जा रहा है हम सभी को अब हर घर में एक बजरंगी पहुंचे, एक बजरंगी बने इस निमित्त कार्य करना होगा.

इस बैठक में प्रांत सह मंत्री नंदकिशोर शर्मा, अशोक गुप्ता एवं प्रांत कोषाध्यक्ष सुनील सूरी, प्रांत उपाध्यक्ष सेठ रामनिवास सहित प्रांत के सभी और जिलों विभागों के भी सभी कार्यकर्ता उपस्थित थे.

Share this:
About Author

Himantar

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *