उत्तराखंड: ट्रक-डंपर मालिकों का गजब कारनामा…आप भी हो जाएंगे हैरान

0
14

हल्द्वानी: गौला नदी में खनन कार्य में जुटे वाहन एक बार फिर चर्चा में हैं. पहले ही भी गौला दनी से खनन सामग्री उठाने वाले वाहन चर्चा में रह चुके हैं. जहां, पहले ट्रक और डंबर बाइकों के नंबर पर दौड़ रहे थे. वहीं, अब यही डंपर और ट्रक बाइक के इंश्योरेंस पर फर्राटे भरते पकड़े गए हैं. मामले में जांच शुरू कर दी गई है। एसएसपी ने एक्शन भी लिया है.

इससे साफ है कि किस तरह से बड़ स्तर पर गड़बड़झाला किया जा रहा है. सरकार को राजस्व का चूना भी लगाया जा रहा है. देखना यह होगा कि इस खेल में आखिर कौन-कौन शामिल है? कुमाऊं की सबसे बड़ी गौला नदी से खनन सामग्री लाने वाले वाहनों के फर्जी इंश्योरेंस के मामले में पुलिस अब बड़ी कार्रवाई करने जा रही है. फर्जी इंश्योरेंस वाहनों के जांच के लिए पुलिस उच्च स्तरीय टीम गठित की है.

मार्च महीने में परिवहन विभाग ने फर्जीवाड़े इंश्योरेंस का खुलासा किया था. परिवहन विभाग ने इंश्योरेंस मामले में फर्जीवाड़े का खुलासा करते हुए हल्द्वानी संभाग अंतर्गत 528 वाहनों को चिन्हित किया था. जिनका एक बड़ी बीमा कंपनी द्वारा फर्जी तरीके से इंश्योरेंस करवाया गया. इन कमर्शियल वाहनों को इंश्योरेंस करवाने के दौरान टू व्हीलर दिखा कर इंश्योरेंस कंपनियों के एजेंटों ने फर्जीवाड़े को अंजाम दिया है.

परिवहन विभाग ने कंपनी को नोटिस जारी किया गया है. जिसमें अभी भी कार्रवाई चल रही है. ऐसे में नैनीताल पुलिस अब खनन से जुड़े वाहनों के फर्जी इंश्योरेंस की जांच शुरू कर दी है. एसएसपी प्रहलाद नारायण मीणा ने बताया खनन कारोबार से जुड़े बहुत से डंपर और ट्रक चालकों के फर्जी इंश्योरेंस के मामला पूर्व में आ चुका है. पूर्व के मामले में दो व्यक्ति को जेल भी भेजा जा चुका है.

परिवहन विभाग के जांच में भी बहुत से वाहनों का फर्जी इंश्योरेंस सामने आया है. ऐसे में पुलिस टीम गठित की गई है जो फर्जी तरीके से इंश्योरेंस कराकर अपने वाहनों को सड़कों पर दौड़ा रहे हैं. पूर्व में जांच में पाया गया कि खनन कारोबार से जुड़े वाहन स्वामी अपने डंपर और ट्रक वाहनों को बाइक इंश्योरेंस पर दिखा रहे थे.

पुलिस को शिकायत मिली है कि अभी भी बहुत से ऐसे फर्जी वाहन हैं जो फर्जी इंश्योरेंस पर दौड़ रहे हैं. इन वाहनों की चेकिंग के लिए पुलिस ने उच्च स्तरीय टीम में गठित की है. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here