टैगोर का शिक्षादर्शन-‘असत्य से संघर्ष और सत्य से सहयोग’

टैगोर का शिक्षादर्शन-‘असत्य से संघर्ष और सत्य से सहयोग’

रवीन्द्रनाथ टैगोर के जन्मदिन पर विशेष डॉ. अरुण कुकसाल ‘किसी समय कहीं एक चिड़िया रहती थी. वह अज्ञानी थी. वह गाती बहुत अच्छा थी, लेकिन शास्त्रों का पाठ नहीं कर पाती थी. वह फुदकती बहुत सुन्दर थी, लेकिन उसे तमीज नहीं थी. राजा ने सोचा ‘इसके because भविष्य के लिए अज्ञानी रहना अच्छा नहीं है’….उसने […]

Read More