December 6, 2020
Home Posts tagged शम्भूदत्त सती
साहित्यिक हलचल

जब सांझ ढले : प्रकृति और प्रेम की जीवंत पहाड़ी कविताएं

शम्भूदत्त सती का कविता संग्रह, ‘जब सांझ ढले’, हिंदी अकादमी, 2005 डॉ. मोहन चंद तिवारी कुमाउनी साहित्य के रचनाकार शम्भूदत्त सती जी के उपन्यास ‘ओ इजा’ की पिछले  लेखों में चर्चा की जा चुकी है. इस लेख में उनके कविता संग्रह ‘जब सांझ ढले’ की चर्चा की जा रही है. उनका
साहित्यिक हलचल

विधवा नारी के उत्पीड़न की करुण कथा है उपन्यास ‘ओ इजा’

 (शम्भूदत्त सती का व्यक्तित्व व कृतित्व-1) डॉ. मोहन चन्द तिवारी कुमाउनी आंचलिक साहित्य के प्रतिष्ठाप्राप्त  रचनाकार शम्भूदत्त सती जी की रचनाधर्मिता से  पहाड़ के स्थानीय लोग प्रायः कम ही परिचित हैं, किन्तु पिछले तीन दशकों से हिंदी साहित्य के क्षेत्र में एक कुमाउनी आंचलिक साहित्यकार के रूप में उभरे सती जी ने अपनी खास पहचान […]