Home Posts tagged ये चिराग जल रहे हैं
पुस्तक-समीक्षा

स्मृति-कथाओं के जीवंत शब्द-चित्र- ये चिराग जल रहे हैं

डॉ. अरुण कुकसाल ‘जिस मकान पर आपके बेटे ने ही सही, बडे़ फख्र से ‘बंसीधर पाठक ‘जिज्ञासु’ की तख़्ती टांग दी थी, उसमें देवकी पर्वतीया का खून-पसीना लगा है. यह नाम कभी आपने ही because उन्हें दिया था लेकिन नेम प्लेट पर अपने नाम के साथ इसे भी शोभायमान करना आप भूले ही रहे (पृष्ठ-41).’’ […]