Home Posts tagged नीलगढ़
पुस्तक-समीक्षा

सब मज़ेदारी है! कथा नीलगढ़- अनन्त गंगोला

डॉ. अरुण कुकसाल ‘तन ढंकने को कपड़े नहीं, सिर छिपाने को मुकम्मल छत नहीं, दो वक्त के चूल्हे के जलने का कोई सिलसिला नहीं, पर इस सब के बीच, ‘क्या हाल है?’ का जवाब ‘सब मजे़दारी है’. आखिर कैसे हो सकता है?’ इस बात ने नीलगढ़ में आकर रहने का जैसा निमंत्रण दे दिया’. (भूमिका […]