Home Posts tagged दर्शनशास्त्र
पुस्तक-समीक्षा

जब नाराज होगी प्रकृति …

राजीव सक्सेना जैसे समुद्र छुपा लेता है सारे शोर… नदियों, जीव जंतुओं के.. कविताएं भी मेरे लिए समुद्र से कम न थी! मैं भी कविता होना चाहती हूं… कविता को लेकर ये आसक्ति… ये प्रेम… ये जूनून अभिव्यक्त हुआ है कवयित्री निमिषा सिंघल की अपनी ही एक रचना में. ‘जब नाराज होगी