देश—विदेश

तीन मिनट में सोनिया-स्मृति के बीच आखिर क्या नोकझोंक हुई?

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के खिलाफ कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी की अशोभनीय टिप्पणी को लेकर आज लोकसभा में जमकर हंगामा हुआ। सदन की कार्यवाही के दौरान करीब चार मिनट तक केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस को जमकर घेरा। उन्होंने चार बार सोनिया गांधी का नाम लिया और कहा कि उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए। इसके बाद लोकसभा की कार्यवाही दोपहर चार बजे तक के लिए स्थगित हो गई, लेकिन हंगामा यहीं नहीं थमा। कार्यवाही स्थगित होने के बाद भी सदन के अंदर भाजपा और कांग्रेस सांसदों के बीच तीन मिनट तक जुबानी जंग होती रही। जानिए, आखिर लोकसभा में हुआ क्या…

पहले जानिए कि कांग्रेस का दावा क्या है?
कांग्रेस सांसद गीता कोड़ा ने एक चैनल से बातचीत में कहा, ”जब सदन स्थगित कर दिया गया, उसके बाद हम सभी बाहर जाने लगे। तभी भाजपा के सभी सांसद सोनिया जी का नाम लेकर चिल्लाने लगे। इतने में सोनिया जी वापस आईं। वे महिला सांसदों से बात करना चाहती थीं, इसलिए वे सांसद रमा देवी के पास गईं। तभी भाजपा के सभी सांसद सोनिया जी पर चिल्लाने लगे कि आपको माफी मांगनी चाहिए। वे उंगली दिखा-दिखाकर उनके बारे में बातें कह रहे थे। स्मृति जी कह रही थीं कि सोनिया जी मेरे खिलाफ बहुत बोलती हैं। जिस तरह वहां बर्ताव हो रहा था, हमें तो लगा जैसे हम पर थोड़ी देर में हमला ही हो जाएगा। बाद में हमने बीच-बचाव कर सोनिया जी को वहां से निकाला। सोनिया जी तो कुछ बोल भी नहीं पाईं। महिला तो महिला, पुरुष सांसद भी उन पर चिल्लाने लगे। एक वरिष्ठ महिला नेता के साथ बात करने का तरीका भी इन लोगों को नहीं मालूम है। लोकतंत्र के मंदिर में महिला सांसद से इस तरह का बर्ताव होना क्या उचित है? बातचीत से रास्ता निकल सकता था, लेकिन ये लोग हमें सदन में बोलने नहीं दे रहे।”

अब जानिए सत्ता पक्ष ने इस बारे में क्या कहा?
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, ”सदन में जब श्रीमती सोनिया गांधी जी ने हमारी वरिष्ठ महिला सांसद रमा देवी से आकर बात की, तब एक और सांसद ने बगल में आकर पूछा कि क्या बात हो रही है? तब सोनिया जी ने एकदम से कहा कि यू डोन्ट टॉक टू मी। सोनिया जी ने लगभग धमकाने वाले लहजे में दूसरे सांसद से बात की। पहली बात तो यह कि उनकी पार्टी ने राष्ट्रपति के बारे में की गई टिप्पणी के लिए माफी नहीं मांगी। दूसरी बात यह कि उन्होंने गुमराह किया और तीसरी बात यह कि उन्होंने बाकी सांसदों के लिए धमकाने वाले अंदाज में बात की। एक तो वे माफी नहीं मांग रहीं, बल्कि धमका रही हैं। सोनिया जी बाहर आएं और गरिमामय तरीके से माफी मांगें। कांग्रेस की सर्वोच्च नेता ने सदन में आक्रामकता दिखाई है।”

मीडिया रिपोर्ट्स में क्या दावा किया जा रहा है?
मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से यह दावा किया जा रहा है कि सदन की कार्यवाही स्थगित होने के बाद सोनिया गांधी सत्ता पक्ष की बेंच की तरफ जाने लगीं। उन्होंने भाजपा सांसद रमा देवी की ओर रुख किया और उनसे कहा कि जब हमारे नेता अधीर रंजन चौधरी माफी मांग चुके हैं तो मेरा नाम क्यों लिया जा रहा है? तभी स्मृति ईरानी नजदीक आईं और कहा, ”मैडम, क्या मैं आपकी मदद कर सकती हूं? मैंने ही आपका नाम लिया था।” इस पर सोनिया ने स्मृति से कहा, ”डोन्ट टॉक टू मी।” इसके बाद तृणमूल कांग्रेस के सांसदों और राकांपा सांसद सुप्रिया सुले सोनिया गांधी को दूर ले गईं। केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने भी मामला शांत करने की कोशिश में बीच-बचाव किया।

Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *