देश—विदेश

चीन का रहस्यमय गांव, जहां 3 फीट से ज्यादा नहीं बढ़ती लोगों की हाइट

हमारी इस दुनिया में तमाम तरह के ऐसे रहस्य मौजूद जिन पर से अभी पर्दा उठना बाकी है, जिनके बारे में इंसान बहुत ही कम जानता है. इसके पीछे एक वजह है कि अक्सर जब हम इंसान कौन सी चीज क्यों हो रही है, उसकी वजह नहीं पता चल पाती तो हम उसको या तो चमत्कार मान लेते हैं या फिर श्राप. ऐसा ही कुछ में है. यहां स्थित एक गांव के लोगों की ऊंचाई सिर्फ 3 फीट तक ही सीमित है.


हम बात कर रहे हैं चीन के शिचुआन प्रांत में मौजूद यांग्सी गांव के बारे में इस गांव की कुल आबादी का पचास फीसदी भाग बौनों का है.इनकी कुल लंबाई 2 फीट से लेकर मात्र तीन फीट तक है. यहां बच्चे तो पैदा ठीक-ठाक होते हैं और लंबाई भी पांच-सात साल ठीक ही बढ़ती है लेकिन इसके बाद बच्चों की हाइट बढ़नी अचानक से रुक जाती है.

हम बात कर रहे हैं चीन के शिचुआन प्रांत में मौजूद यांग्सी गांव के बारे में इस गांव की कुल आबादी का पचास फीसदी भाग बौनों का है.इनकी कुल लंबाई 2 फीट से लेकर मात्र तीन फीट तक है. यहां बच्चे तो पैदा ठीक-ठाक होते हैं और लंबाई भी पांच-सात साल ठीक ही बढ़ती है लेकिन इसके बाद बच्चों की हाइट बढ़नी अचानक से रुक जाती है.
इस गांव के आसपास रहने वाले लोगों का मानना है कि यहां किसी बुरी शक्ति का साया है, जिस कारण लोगों की लंबाई नहीं बढ़ पाता है. वहीं एक मान्यता ये भी है कि प्राचीन काल से यांग्सी एक श्रापित गांव है. जिसका असर आज भी गांव पर देखने को मिलता है.
इस गांव के आसपास रहने वाले लोगों का मानना है कि यहां किसी बुरी शक्ति का साया है, जिस कारण लोगों की लंबाई नहीं बढ़ पाता है. वहीं एक मान्यता ये भी है कि प्राचीन काल से यांग्सी एक श्रापित गांव है. जिसका असर आज भी गांव पर देखने को मिलता है.

 वहीं एक मान्यता ये भी है कि प्राचीन काल से यांग्सी एक श्रापित गांव है. जिसका असर आज भी गांव पर देखने को मिलता है. 

वहीं, कुछ का ये भी मानना है कि जापान द्वारा चीन की तरफ छोड़ी गई जहरीली गैस के असर के कारण इस गांव में बौनापन फैल गया है. वैज्ञानिकों ने भी इसके पीछे की वजह जानने की कोशिश की. इस दौरान ये निष्कर्ष निकला कि गांव की मिट्टी में पारा यानी मर्क्युरी काफी मात्रा में मौजूद है. इसकी वजह से ही यहां के लोगों की लंबाई नहीं बढ़ती.

वहीं एक मान्यता ये भी है कि प्राचीन काल से यांग्सी एक श्रापित गांव है. जिसका असर आज भी गांव पर देखने को मिलता है. वहीं, कुछ का ये भी मानना है कि जापान द्वारा चीन की तरफ छोड़ी गई जहरीली गैस के असर के कारण इस गांव में बौनापन फैल गया है. वैज्ञानिकों ने भी इसके पीछे की वजह जानने की कोशिश की. इस दौरान ये निष्कर्ष निकला कि गांव की मिट्टी में पारा यानी मर्क्युरी काफी मात्रा में मौजूद है. इसकी वजह से ही यहां के लोगों की लंबाई नहीं बढ़ती.



वहीं कुछ का ये भी मानना है कि जापान द्वारा चीन की तरफ छोड़ी गई जहरीली गैस के असर के कारण इस गांव में बौनापन फैल गया है. हालांकि, आजतक कोई इस रहस्य का सटीक जवाब नहीं दे पाया है.

वहीं कुछ का ये भी मानना है कि जापान द्वारा चीन की तरफ छोड़ी गई जहरीली गैस के असर के कारण इस गांव में बौनापन फैल गया है. हालांकि, आजतक कोई इस रहस्य का सटीक जवाब नहीं दे पाया है.
Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *