उत्तराखंड हलचल

कांग्रेस में बवाल- धारचूला विधायक हरीश धामी भाजपा में हो सकते हैं शामिल

पिथौरागढ़ : धारचूला के विधायक हरीश धामी के भाजपा में जाना लगभग तय माना जा रहा है। धारचूला, गोरीछाल व अन्य ब्लाक अध्यक्षों सहित सभी ने कांग्रेस की प्राथमिकता सदस्यता और पदों से त्यागपत्र दे दिए हैं। विधायक धामी देहरादून को निकल चुके हैं। क्षेत्र में कांग्रेस छोडऩे वालों का सिलसिला जारी है।

विधायक धामी से भाजपा में शामिल होने की बात पूछी गई तो तो उन्होंने स्पष्ट तो कुछ नहीं कहा। पर यह कहते हुए संकेत दिया कि उनको जिताने वाली जनता और पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं चाहेंगे वही वह करेंगे।

कांग्रेस ने मुझे उपेक्षित किया

धामी ने कांग्रेस पर अपनी उपेक्षा का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में उनकी लगातार उपेक्षा हो रही है। पूर्व में जब कांग्रेस की प्रदेश कार्यकारिणी का गठन हुआ तो उन्हें जो पद मिला था उसमें सबसे नीचे उनका नाम था। बाद में भी उन्हें केवल नाममात्र का पद दिया गया।

सैनिकों के प्रति नकारात्म है कांग्रेस

विधायक धामी ने कहा कि कांग्रेस पूर्व सैनिकों व उनके आश्रितों के प्रति नकारात्मक सोच रखती है। उनकी उपेक्षा करती है। वह स्वयं पूर्व सैनिक परिवार से हैं। उनके स्व. पिता ने 1971 का भारत पाक युद्ध लड़ा था। कांग्रेस ने हमेशा सैनिक पृष्ठभूमि वाले परिवारों की उपेक्षा की है।

तीन दशक बाद कांग्रेस को दिलाई जीत 

धामी ने कहा कि उन्होंने 31 वर्षो बाद धारचूला सीट कांग्रेस के खाते में डाली। अपनी सीट छोड़ कर पूर्व सीएम हरीश रावत को चुनाव लड़ा कर विजयी बनाया।

मोदी लहर में भी जीती सीट

2017 में जब पूरे देश सहित उत्तराखंड में मोदी लहर चल रही थी उस समय भी मैनें जीत दिलाई। जिले की तीन सीटें भाजपा के खाते में गई थी, तब भी धारचूला सीट कांग्रेस के खाते में डाली।

कार्यकर्ताओं में है निराशा

कांग्रेस में उनकी लगातार उपेक्षा से सीमांत के कांग्रेस कार्यकर्ता मायूस हैं। इस उपेक्षा से खिन्न होकर सभी ब्लाक अध्यक्षों व अन्य पदाधिकारियों ने त्याग पत्र दे दिए हैं।

दून में भाजपा नेताओं से मुलाकात के कयास

हल्द्वानी से देहरादून जा रहे धामी से उनके फैसले के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि जिस जनता और कार्यकर्ताओं ने उन्हें जीत दिलाई है। उनके जो आदेश होंगे वही वह मानेंगे। मंगलवार को धारचूला , मुनस्यारी क्षेत्र में जो हुआ है उससे लगता है कि धामी के भाजपा में जाने के कयास सच साबित होंगे।

Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *