देश—विदेश

दिल्ली में 9 महीनों में 200 से ज्यादा शराब की दुकाओं पर लगा ताला

दिल्ली में शराब पीने के शौकीनों के लिए और शराब (Liquor) का व्यापार करने वालों के लिए बड़ी खबर है। यहां अगले कुछ दिनों में शराब की कई दुकानें बंद हो सकती हैं। इसका अंदाजा केवल इस बात से लगाया जा सकता है कि 9 महीनों के अंदर दिल्ली में 200 से ज्यादा दुकानों पर ताला लगा है। गौरतलब है कि दिल्ली सरकार की नई आबकारी नीति को आए अभी 9 महीने भी नहीं हुए हैं।

दिल्ली में शराब (Liquor) कारोबारी सरकार की नीतियों को ध्यान में रखते हुए अपनी शराब की दुकानें बंद कर रहे हैं। इसकी वजह ये है कि शराब (Liquor) कारोबारियों को इस काम में नुकसान उठाना पड़ रहा है। वे अपने लाइसेंसों को सरकार को वापस कर रहे हैं।

शराब कारोबारियों को क्यों हो रही दिक्कत?

शराब (Liquor) कारोबारियों का कहना है कि सरकार अपनी नीतियों को ना ही खुद समझती है और ना ही सही से लागू कर पाती है। पहले सरकार ने ये छूट दी थी कि शराब (Liquor)  पर डिस्काउंट दिया जा सके, फिर सरकार ने इसे हटा दिया। इसके बाद सरकार ने फिर से शराब पर डिस्काउंट की छूट दी, जिससे कारोबारियों को काफी नुकसान उठाना पड़ा।

कारोबारियों ने ये भी कहा कि सरकार ने कई ब्रांड्स पर रोक भी लगाई, जिससे उनकी बिक्री पर असर पड़ा। कई लोगों ने उनकी दुकानों से शराब लेना इसलिए भी बंद कर दिया क्योंकि उन्हें अपनी मनपसंद शराब का ब्रांड नहीं मिला।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का क्या कहना है?

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का कहना है कि नई शराब (Liquor) नीति में कोई घोटाला नहीं हुआ है। दिल्ली के अफसरों को सीबीआई और ईडी ने डरा रखा है। बीजेपी की धमकियों से ईडी के अफसर डरे हुए हैं। नई शराब नीति के बाद दिल्ली में एक भी नई दुकान नहीं बढ़ी है।

क्या है सरकार की पॉलिसी

दिल्ली सरकार साल 2021 में 17 नवंबर को नई आबकारी नीति लाई थी। इस नीति के तहत दिल्ली की सभी सरकारी और प्राइवेट शराब की दुकानों को बंद किया गया था और नए तरीके से टेंडर जारी किए गए थे। इस पॉलिसी के तहत सरकार का कहना था कि उसे ज्यादा राजस्व मिलेगा और शराब के माफियाओं पर रोक लगेगी।

Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *