देश—विदेश

पणजी सीट से पूर्व सीएम मनोहर पर्रिकर के बेटे ने मांगा टिकट

गोवा में 14 फरवरी को प्रस्तावित विधानसभा चुनाव (Goa Assembly Election 2022) से पहले सियासी हलचल का दौर शुरू हो गया है. राज्य में 14 फरवरी को 40 विधानसभा सीटों पर चुनाव होने हैं. ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टियां ऐडी चोटी का जोर लगा रही है. इस बीच, सीटों को लेकर असंतोष की आवाज भी तेजी से उठने लगी है. गोवा में इस समय पणजी सीट (Panjim Seat) पर विरोध उपजा हुआ है. दिवंगत बीजेपी नेता और पूर्व सीएम मनोहर पर्रिकर (Manohar Parikar) के बेटे उत्पल पर्रिकर (Utpal Parikar) लगातार पणजी सीट पर अपना दावा ठोक रहे हैं. हालांकि अब बीजेपी ने पणजी से गोवा चुनाव लड़ने की उनकी मांग पर अपना रुख स्पष्ट कर दिया है.

उत्पल पर्रिकर की मांग ठुकराते हुए BJP के गोवा चुनाव प्रभारी देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने पुष्टि की है कि उनकी पार्टी सिर्फ इसलिए टिकट नहीं देती है कि कोई नेता का बेटा है. इसके लिए योग्यता पहली प्राथमिकता है. देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि उनके और अमित शाह (Amit Shah) के बीच बुधवार को हुई बैठक में क्या बातचीत हुई. इसकी जानकारी मिलने के बाद ही मैं अपनी राय व्यक्त करूंगा.’ 2019 में अपने पिता की असामयिक मृत्यु के बाद उत्पल पर्रिकर ने पणजी में अगला उपचुनाव लड़ने की इच्छा सार्वजनिक की थी. हालांकि, बीजेपी ने सिद्धार्थ कुंकालिंकर (Sidharth Kuncalienker) को टिकट दिया था.

पर्रिकर के बेटे को टिकट देने से इनकार

मनोहर पर्रिकर के बड़े बेटे पणजी सीट से उपचुनाव लड़ना चाहते थे. लेकिन बीजेपी ने परिवारवाद को बढ़ावा नहीं देने के नाम पर उत्पल पर्रिकर को टिकट देने से साफ इनकार कर दिया. हालांकि अब भी बीजेपी का यही कहना है. जब तक मनोहर पर्रिकर जिंदा थे. तब तक उत्पल ने राजनीति में कभी कोई रूचि नहीं दिखाई. हालांकि अब वह अपने पिता की राजनीतिक विरासत पर अपनी दावेदारी लगातार पेश कर रहे हैं. कुछ समय पहले उन्होंने कहा था कि अगर उन्हें पणजी सीट नहीं मिली तो वह कड़ा कदम इख्तियार कर सकते हैं.

गोवा में 14 फरवरी को मतदान

पूर्व सीएम के बेटे ने धमकी दी है कि अगर बीजेपी उन्हें टिकट नहीं देती है तो वह निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ेंगे, लेकिन शाह ने कथित तौर पर उन्हें ऐसा करने से मना किया. भारत के चुनाव आयोग (Election Commission) द्वारा 8 जनवरी को घोषित चुनाव कार्यक्रम के मुताबिक, राज्य में 14 फरवरी को मतदान होगा जबकि मतों की गिनती 10 मार्च को होगी. मतदाता सूची में 11,56,762 पंजीकृत मतदाताओं के साथ, मतदान केंद्रों को बढ़ाकर 1722 कर दिया गया है. कोविड-19 की स्थिति को देखते हुए सभी रैलियों और रोड शो पर 15 जनवरी तक रोक लगा दी गई है और मतदान का समय 1 घंटे बढ़ा दिया गया है.

Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *