उत्तराखंड हलचल

आलवेदर रोड से निकला हुआ डंप मलबा भविष्य में खेतों को करेगा बर्बाद

कंडीसौड़ : ऋषिकेश -गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर कंडीसौड़ के पास रखेड़ीखाल तोक (जसपुर) में आलवेदर रोड के डंपिग जोन में मानक से अधिक मलबा डाला जा रहा है, जिससे मलबा ओवरफ्लो हो रहा है। साथ ही डंपिंग जोन में पानी की निकासी के लिए भी कार्यदायी संस्था ने कोई ठोस इंतजाम नहीं किए हैं। जिस कारण मलबा कभी भी यहां कहर बरपा सकता है। ग्रामीणों के अनुसार, बिना सुरक्षा उपाय के भारी मात्रा में डंप मलबा यहां भविष्य में खेतों को बर्बाद करेगा। साथ ही प्राकृतिक जल स्त्रोत को खत्म कर देगा। आगे जाकर मलबा टिहरी झील में गाद के रूप में जमा हो जाएगा। यह एनजीटी के नियमों का भी उल्लंघन है।

आलवेदर रोड निर्माण कार्य शुरू होने के दौरान ग्राम पंचायत जसपुर ने रखेड़ीखाल तोक में बहुउद्देशीय मैदान निर्माण की शर्त पर यहां डंपिग जोन बनाने की सहमति दी थी। स्थानीय जनता की मांग पर वन विभाग ने भी डंपिग जोन की स्वीकृति प्रदान की थी। आलवेदर रोड कटिग होने पर कार्यदायी संस्था बीआरओ ने मलबा रखेड़ीखाल तोक (जसपुर) में डंपिग करवाया। वर्तमान में निर्माणदायी संस्था ने डंपिग जोन में बेतरतीब ढंग से मलबा डाला, जिस कारण ये ओवरफ्लो हो रहा है, जबकि सुरक्षा के कोई ठोस उपाय नहीं किए हैं।

दरअसल, जिस जगह पर डंपिंग जोन बनाया हुआ है, वहां पर पहले खाला था, यहां से बरसात का पानी होकर गुजरता है। निर्माणदायी संस्था को पानी की निकासी के लिए ह्यूम पाइप डालने थे, लेकिन क्रेटवाल (तारा का जाला डालकर) पानी की अस्थायी निकासी की व्यवस्था की जा रही है, जो भविष्य में खतरा बन सकता है। यह पूरे क्षेत्र का सबसे बड़ा डंपिंग जोन है। यहां पर आलवेदर रोड निर्माण के चार किमी दायरे का मलबा डंप किया जा रहा है।

ग्राम प्रधान जसपुर विजयलक्ष्मी, क्षेत्र पंचायत सदस्य जसपुर आरती देवी, सामाजिक कार्यकत्र्ता ललित खंडूड़ी, मनोज खंडूड़ी आदि का कहना है कि डंपिग जोन में मजबूत स्थायी सुरक्षा उपाय किए जाएं। साथ ही जनभावना के अनुरूप बहुउद्देश्यीय मैदान का निर्माण किया जाए, जहां भविष्य में युवाओं को खेलने के लिए मैदान मिल सके। साथ ही थौले-मेलाओं के अलावा यहां पार्किंग की भी व्यवस्था हो सके। यदि जनभावना के अनुरूप सुरक्षा उपायों के साथ बहुउद्देशीय मैदान का निर्माण नहीं किया जाता है तो ग्रामीण आलवेदर रोड निर्माण कार्य रोकते हुए आंदोलन को बाध्य होंगे।

बीआरओ चीफ ने डंपिग जोन का निरीक्षण किया है। शीघ्र ही प्रशासन व स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ संयुक्त निरीक्षण कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *