नैनीताल के टूरिस्ट स्पॉट टिफिन टॉप की डोरोथी सीट का अस्तित्व खतरे में

0
51

नैनीताल के अत्यंत लोकप्रिय टूरिस्ट स्पॉट टिफिन टॉप पर बनी डोरोथी सीट का अस्तित्व खतरे में है। इसके चारों ओर टिफिन टॉप क्षेत्र में बहुत गहरी और चौड़ी दरारें पड़ गईं हैं और यहां से टूट टूटकर छोटे बड़े बोल्डर नीचे गिरते रहते हैं। यदि तत्काल युद्ध स्तर पर इसका उपचार नहीं किया गया तो जल्द ही डोरोथी सीट इतिहास बन कर रह जाएगी।

नैनीताल के दक्षिण की से 2290 मीटर की ऊंचाई पर स्थित टिफिन टॉप में हर वर्ष लाखों की तादाद में पर्यटकों सहित स्थानीय नागरिक बेहतरीन प्राकृतिक नजारों का आनंद लेने आते हैं। पर्यटकों से कहीं ज्यादा यह स्थान स्थानीय निवासियों में लोकप्रिय है।

नगर से लगभग पांच किलोमीटर की दूरी पर हल्की चढ़ाई वाले चौड़े रास्ते से यहां जाना ट्रेकिंग के शौकीनों के लिए अद्भुत अनुभव होता है। इस चोटी पर एक बेंच बनी है जिसे डोरोथी सीट कहा जाता है। बताया जाता है कि डोरोथी नामक महिला यहां बैठकर नगर और आसपास के खूबसूरत नजारों की पेंटिंग बनाया करती थीं। डोरोथी सीट से पूरे नैनीताल नगर उसके ठीक पीछे उत्तर दिशा में हिमालय की चोटियों का इतना सुंदर दृश्य नजर आता है जो किसी को भी मंत्रमुग्ध कर दे।

इस स्थान से नजर आने वाला चारों दिशाओं में दूर दूर तक की पहाड़ियों और मैदानी क्षेत्रों का आकर्षक दृश्य यहां की खासियत है। दुखद तथ्य यह है कि बीते कई वर्षों से यहां अनेक दरारें पड़ चुकी हैं। लंबे समय से धीरे धीरे यह चोटी दरक ही रही थी। इस वर्ष यहां पड़ीं दरारें तेजी से गहरी और चौड़ी हो गईं हैं और आए दिन यहां से बोल्डर गिरते रहते हैं। क्षेत्र में चाय नाश्ते की दुकान चलाने वाले दिनेश सूंठा बताते हैं कि दरारों की वजह से डोरोथी सीट तक जाना खतरे का सबब बन चुका है।

इन हालातों में सीट कभी भी दरक सकती है और यहां बड़ी दुर्घटना घट सकती है। फिर भी लोग खतरा मोल लेकर वहां तक जा रहे हैं। दिनेश सहित उनके चार भाई विमल, महेश और उमेश भी इस दुकान से ही आजीविका चलाते हैं। सभी इसकी गंभीर स्थिति से बहुत चिंतित हैं।  टिफिन टॉप में डोरोथी सीट का निर्माण ब्रिटिश सेना के अधिकारी कर्नल केलेट ने अपनी कलाकार पत्नी डोरोथी केलेट की याद में किया था। डोरोथी का इंग्लैंड जाते समय जहाज पर सेप्टिसीमिया से निधन हो गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here