April 17, 2021
Home Archive by category समाज/संस्कृति (Page 2)

समाज/संस्कृति

समाज/संस्कृति

बगरौ बसंत है

प्रो. गिरीश्वर मिश्र सृष्टि चक्र का आंतरिक विधान सतत परिवर्तन का है और भारत देश का सौभाग्य कि वह इस गहन क्रम का साक्षी बना है. तभी ऋत और सत्य के विचार यहां के चिंतन में गहरे पैठ गए हैं और नित्य-अनित्य का विवेक so करना दार्शनिकों के लिए बड़ी चुनौती बनी रही. यहां ऋतुओं […]
समाज/संस्कृति

बसंत उस तोर के पेड़ पर आयेगा या नहीं अनभिज्ञ थी मैं

सुनीता भट्ट पैन्यूली जनवरी का महीना था, ज़मीन से उठता कुहासा मेरे घर के आसपास विस्तीर्ण फैले हुए गन्ने के खेतों पर एक वितान-सा बुनकर मेरे भीतर न जाने कहीं because सहमे हुए बच्चे की तरह बुझा-बुझा सा बैठ जाया करता था. जनवरी लाख चेष्टा की because मैंने मेरे भीतर बैठ गये डरे सहमे से उस […]
समाज/संस्कृति

नशे के खिलाफ ‘जय हो’ का हस्ताक्षर अभियान

नशे के खिलाफ नगरवासियों को जागरूक कर उपजिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन हिमांतर ब्यूरो, बड़कोट नगर पालिका परिषद सहित आसपास के क्षेत्रों में नशे का करोबार बहुत फलफूल रहा है. सामाजिक चेतना की बुलन्द आवाज ‘जय हो’ ग्रुप, नगर व्यापार मण्डल सहित नगर केbecause प्रबुद्वजनों ने नशे के खिलाप हस्ताक्ष अभियान चलाकर थाना प्रभारी निरीक्षक और […]
समाज/संस्कृति

आओ! आज वेलेंटाइन-डे पर प्रकृति प्रेम का इजहार करें

आज 14 फरवरी को मनाया जाने वाला वेलेंटाइन डे प्यार के इजहार का दिन है. डॉ. मोहन चंद तिवारी भारत में वैलेंटाइन-डे के मौके पर वसंत ऋतु का सुहाना मौसम चल रहा होता है. जिस प्रकार प्यार मोहब्बत की स्नेहधारा के साथ इस पावन ऋतु का स्वागत किया जाना चाहिए, so वह माहौल आज कहीं […]
समाज/संस्कृति

गावों में भाईचारे की मिसाल हैं परम्परागत घराट  

 आशिता डोभाल पहाड़ की चक्की, शुद्धता और आपसी भाईचारे की मिसाल कायम करने वाली ये चक्की शायद ही अब कहीं देखने को मिलती होगी, गुजरे जमाने में जीवन जीने का यह because मुख्‍य आधार हुआ करती थी. पहाड़ में मानव सभ्यता के विकास की ये तकनीक सबसे प्राचीन है. यहां की जीवन शैली में […]
समाज/संस्कृति

आन-बान और शान की प्रतीक हैं टोपियां…

सुनीता भट्ट पैन्यूली सर्द मौसम है, कभी बादल सूर्य को आगोश में ले लेते हैं कभी सूरज देवता बादलों को पछाड़कर धूप फेंकते यहां-वहां नज़र आ जाते हैं, कभी पेड़ो के झुरमुट में, कभी आसमान so में प्रचंड चमकते, कभी खेतों के पीछे, कभी पहाड़ियों में धीरे-धीरे सरकते कभी नदी का माथा  चूमते किंतु इस […]
समाज/संस्कृति

जहां न्‍याय के लिए गुहार लगाने पहुंचते हैं लोग…

कुमाऊंनी से कुछ अलग है न्याय देवता गोरिल की गढ़वाली जागर कथा न्यायदेवता गोरिल पर एक शोधपूर्ण लेख डॉ. मोहन चंद तिवारी कुमाऊं और गढ़वाल के विभिन्न क्षेत्रों में ‘ग्वेल देवता’, ‘गोलज्यू’ ,‘गोरिल’ आदि विभिन्न नामों से आराध्य न्याय देवता की लोकगाथा के विविध संस्करण प्रचलित हैं और उनमें इतनी भिन्नता है कि कभी कभी […]
समाज/संस्कृति

नोएडा में जोरों पर है श्रीराम मंदिर समर्पण निधि अभियान, घर-घर संपर्क कर रहे हैं स्वयं सेवक

हिमांतर ब्यूरो, नोएडा  अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण के लिए शुक्रवार से ही देशभर में श्रीराम मंदिर समर्पण निधि अभियान की शुरुआत हो चुकी है। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) और उससे जुड़े संगठनों के कार्यकर्ता घर-घर संपर्क अभियान के जरिए राम मंदिर के निर्माण के लिए सहयोग राशि जुटा रहे हैं। नोएडा […]
समाज/संस्कृति

क्या है जन्म-जन्मान्तर और सात जन्मों के रिश्ते की सच्चाई?

भुवन चन्द्र पन्त जब स्त्री व पुरूष वैवाहिक सूत्र में बंधते हैं तो सनातन संस्कृति में इसे जन्म-जन्मान्तर का बन्धन अथवा सात जन्मों का बन्धन कहा जाता है. अगर कोई ये कहे कि हां, यह बात शत-प्रतिशत सही है तो संभव है कि उसे दकियानूसी ठहरा दिया जाय. because वर्तमान दौर वैज्ञानिक सोच का है, […]
समाज/संस्कृति

नव वर्ष 2021 हरिद्वार कुम्भ का भी लोकमंगलकारी वर्ष है

डॉ. मोहन चंद तिवारी प्रति वर्ष 31 दिसंबर को काल की एक वर्त्तमान पर्याय रात्रि 12 बजे अपने अंत की ओर अग्रसर होती है तो दूसरी पर्याय नए वर्ष के रूप में पदार्पण भी करती है.काल के इसी संक्रमण की वेला को अंग्रेजी केलेंडर के अनुसार नववर्ष का आगमन माना जाता है. इस बार नव […]