April 17, 2021
Home Archive by category समसामयिक (Page 2)

समसामयिक

समसामयिक

टिहरी में कांग्रेस को बड़ा झटका

जिला पंचायत सदस्य व जिला नियोजन समिति टिहरी के सदस्य अमेन्द्र बिष्ट ने पहनी ‘आप’ की टोपी इन्‍द्र सिंह नेगी, देहरादून   टिहरी में कांग्रेस के ओबीसी प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष, so जनपद में कांग्रेस का सक्रिय युवा, जानकार, संवेदनशील व लगभग सभी वर्गो में समान रूप से लोक प्रिय चेहरा जिला
समसामयिक

दुनिया में पहली बार हुई वायु प्रदूषण से किसी की मौत!

मौत के सात साल बाद कोर्ट ने भी आख़िर माना कि वायु प्रदूषण ने ही ली थी बच्ची की जान! निशांत दुनिया में ऐसा पहली बार हुआ है कि तमाम सबूतों और गवाहों के बयानात के मद्देनज़र किसी कोर्ट ने वायु प्रदूषण को किसी इन्सान की मौत का ज़िम्मेदार घोषित किया है. प्रदूषण मामला ब्रिटेन […]
समसामयिक

योगी आदित्यनाथ फिर नंबर वन…

‘शिखर पर उत्तराखंडी टॉप-50’ वार्षिक रैंकिंग जारी हिमांतर ब्‍यूरो, देहरादून उत्तराखंड के बेटे-बेटियां किस तरह देश के अलग-अलग हिस्से में अलग-अलग पदों पर रहते हुए महती भूमिका निभा रहे हैं, यह समूचा विश्व देख रहा है. आज राजनीति और कूटनीति, रक्षा और सुरक्षा, गीत-संगीत, कला, योग पर्यावरण, साहित्य और सेवा, हर क्षेत्र में पहाड़ के […]
समसामयिक

किसानों का असली दुश्मन, जलवायु परिवर्तन

निशांत फ़िलहाल देश में किसानों का because आन्दोलन मीडिया की सुर्खिया बटोर रहा है. किसानों से जुड़ी हर रिपोर्ट में एमएसपी और आढ़ती शब्द जगह बनाए हुए हैं. लेकिन जलवायु परिवर्तन एक ऐसा शब्द युग्म है जिसका प्रयोग किसानों और किसानी के संदर्भ में ज़्यादा से ज़्यादा होना चाहिए. मीडिया इसकी वजह यह है कि […]
समसामयिक

घड़ी परीक्षा की  है पर हिम्मत न हारें  

प्रो. गिरीश्वर मिश्र आज कोरोना की महामारी ने ठण्ड because और प्रदूषण के साथ मिल कर आम आदमी की जिन्दगी की मुश्किलों को बहुत बढ़ा दिया है. बहुत कुछ अचानक हो रहा है और उसके साथ जुड़ी चिंता, परेशानी, कुंठा, व्यथा  दुःख की विभीषिका की तरह चल रही है. प्रिय जन को खोना, नौकरी छूट जाना, गंभीर रोग, दुर्घटना, त्रासदी जैसे भयानक […]
समसामयिक

सर्दियों के इस मौसम में पर्यटकों के स्वागत को तैयार है औली

हिमांतर ब्यूरो, देहरादून उत्तराखंड में because बहुत से पर्यटन स्थल हैं जो अपनी प्राकृतिक सुदंरता से सैलानियों को चकित कर देते हैं. उत्तराखंड पर्यटन का ऐसा ही एक नगीना है औली. परिलोक सा खूबसूरत औली शांत प्रकृति की गोद में स्थित है. यहां से हिमालय के शिखरों का भव्य नजारा भी दिखाई देता है और […]
समसामयिक

उत्तराखंड की वादियों से गुमानी पंत ने उठाई थी,आज़ादी की पहली आवाज

संविधान दिवस (26 नवम्बर) पर विशेष डॉ.  मोहन चंद तिवारी मैं पिछले अनेक वर्षों से अपने लेखों द्वारा लोकमान्य गुमानी पन्त के साहित्यिक योगदान की राष्ट्रीय पत्र पत्रिकाओं में निरंतर रूप से चर्चा करता आया हूं. उसका एक कारण यह भी है कि संविधान की आठवीं अनुसूची में उत्तराखंड की भाषाओं को मान्यता दिलाने के […]
समसामयिक

कोरोना काल में स्वास्थ्य की चुनौती के निजी और सार्वजनिक आयाम 

प्रो. गिरीश्वर मिश्र आजकल  का समय  स्वास्थ्य की दृष्टि से एक  घनी चुनौती बनता जा रहा है जब पूरे विश्व में में मानवता के ऊपर एक ऐसी अबूझ महामारी का असर पड़ रहा है जिसके आगे अमीर गरीब सभी देशों ने हाथ खड़े कर दिए हैं.  सभी परेशान है और उसका कोई हल दृष्टि में नहीं […]
समसामयिक

राजनीति में लोकतांत्रिक संस्कार की जरूरत

गिरीश्वर  मिश्र राजनीति सामाजिक जीवन की व्यवस्था चलाने की एक जरूरी आवश्यकता है जो स्वभाव से ही व्यक्ति  से मुक्त हो कर लोक की ओर उन्मुख होती है. because दूसरे शब्दों में वह सबके लिए साध्य न हो कर उन बिरलों के लिए ही होती है जो निजी सुख को छोड़ कर लोक कल्याण के […]
समसामयिक

चुनाव के बहाने वजूद तलाशते प्रवासी पहाड़ी!

शशि मोहन रावत ‘रवांल्‍टा’ आज लॉक डाउन के लगभग सात माह बाद अपने पुराने साथी से मुलाकात हुई. रात साढ़े ग्यारह बजे चाय पी गई और उसके बाद वो दूसरे रूम में सोने चला गया, क्योंकि सात माह से गांव में रहने के कारण जल्दी सोना उसकी आदत में शुमार हो गया है. मैं चाय […]