देश—विदेश

औरंगाबाद रैली को लेकर MNS चीफ राज ठाकरे के खिलाफ केस दर्ज

महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर और हनुमान चालीसा के मुद्दे को हवा देने वाले एमएनएस चीफ राज ठाकरे की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. एक तरफ 2008 के एक मामले को लेकर उन पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है, वहीं अब औरंगाबाद में हुई रैली को लेकर भी राज ठाकरे और आयोजकों के खिलाफ केस दर्ज हुआ है.

रैली की वीडियो रिकॉर्डिंग देखने के बाद केस दर्ज
1 मई को राज ठाकरे ने अपने हजारों समर्थकों की मौजूदगी में औरंगाबाद में बड़ी रैली की थी. महाराष्ट्र पुलिस ने कई शर्तों के साथ रैली को मंजूरी दी थी. लेकिन अब इसी रैली को लेकर राज ठाकरे के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. साथ ही आयोजकों का नाम भी एफआईआर में शामिल है. बताया गया है कि पुलिस ने पूरी रैली की वीडियो रिकॉर्डिंग की थी, जिसे देखने के बाद ये मामला दर्ज किया गया है.

डीजीपी ने कही थी कार्रवाई की बात
इससे पहले महाराष्ट्र के पुलिस प्रमुख (डीजीपी) रजनीश सेठ ने इस मामले को लेकर कहा कि औरंगाबाद के पुलिस आयुक्त कथित विवादित भाषण को लेकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे के खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई करेंगे. उन्होंने बताया कि 13,000 से अधिक लोगों के खिलाफ दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 149 (संज्ञेय अपराधों को रोकना) के तहत नोटिस जारी किए गए हैं. औरंगाबाद के पुलिस आयुक्त भाषण की जांच कर रहे हैं. वह आवश्यक कानूनी कार्रवाई करेंगे.

इन धाराओं में मुकदमा दर्ज
राज ठाकरे पर समुदायों के बीच द्वेष पैदा करने का मामला दर्ज किया गया है. भारतीय दंड संहिता की धारा 153 के तहत ये मामला दर्ज हुआ है. साथ ही धारा 116 और 117 भी लगाई गई है. इससे पहले रैली को लेकर राज ठाकरे और एमएनएस कार्यकर्ताओं को पुलिस की तरफ से नोटिस जारी किया गया था. धारा 149 के तहत भेजे गए इस नोटिस में कहा गया था कि रैली में नियमों का उल्लंघन किया गया है.

रैली में राज ठाकरे ने दिया अल्टीमेटम

1 मई को औरंगाबाद की रैली में राज ठाकरे ने महाराष्ट्र सरकार पर जमकर हमला बोला. इस दौरान उन्होंने एनसीपी चीफ शरद पवार को सबसे ज्यादा निशाने पर लिया और उन्हें नास्तिक बताया. इसके अलावा राज ठाकरे ने एक बार फिर अल्टीमेटम देते हुए कहा कि,  कल दो मई है, 3 मई को ईद है, इसके बाद 4 मई को हम नही सुनेंगे. जहां-जहां लाउडस्पीकर्स लगे हुए हैं, वहां हनुमान चालीसा का पाठ किया जाएगा. उन्होंने कहा कि, औरंगाबाद के अलावा महाराष्ट्र के हर जिले में ऐसी ही रैलियां की जाएंगीं.

Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *