उत्तराखंड हलचल

धोखाधड़ी मामले में कोचिंग सेंटर आफिसर्स एनडीए एकेडमी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

देहरादून: एनडीए की कोचिंग करवाने के नाम पर धोखाधड़ी करने के मामले में आफिसर्स एनडीए एकेडमी के चेयरमैन व स्टाफ के खिलाफ एक और मुकदमा दर्ज किया गया है। इससे पहले एकेडमी के स्टाफ के खिलाफ प्रेमनगर थाने में दो मुकदमे दर्ज हो चुके हैं।

भिलाई (छत्तीसगढ़) निवासी हिना राठौड़ ने राजपुर थाने में तहरीर दी थी कि उनके बेटे पराग ने भिलाई में गत वर्ष 11वीं कक्षा उत्तीर्ण की। उन्होंने बेटे को 12वीं की पढ़ाई के साथ एनडीए की कोचिंग करवाने के लिए देहरादून के प्रेमनगर स्थित आफिसर्स एनडीए एकेडमी को चुना। फोन पर संपर्क करने पर कोचिंग सेंटर के स्टाफ ने बताया कि उनकी एकेडमी का पेसलवीड स्कूल के साथ करार है।

इसके तहत पराग पेसलवीड स्कूल से 12वीं की पढ़ाई और उनकी एकेडमी से एनडीए की कोचिंग कर सकता है। हिना के अनुसार, उन्होंने अक्टूबर 2021 में ढाई लाख रुपये देकर पराग का दाखिला आफिसर्स एनडीए एकेडमी में करा दिया। उसी महीने पराग देहरादून पहुंचा तो एकेडमी स्टाफ ने उसे हास्टल के बजाय प्रेमनगर स्थित स्पाट आन होटल में अन्य छात्रों के साथ ठहराया, जहां रहने-खाने का अच्छा प्रबंध नहीं था। इस पर उन्होंने एकेडमी में फोन किया।

एकेडमी स्टाफ के सदस्य प्रदीप ने उन्हें बताया कि हास्टल में रंग-रोगन का काम चल रहा है, इसलिए छात्रों को दूसरी जगह रखा गया है। हिना ने बताया कि पराग समेत अन्य छात्रों को पूरा साल रखने के बावजूद एकेडमी ने न तो उन्हें एनडीए की कोचिंग करवाई और न ही किसी स्कूल में भेजा गया। ऐसे में उनका पूरा साल बर्बाद हो गया।

हिना के अनुसार, जब उनके साथ अन्य छात्रों के स्वजन पेसलवीड स्कूल पहुंचे तो स्कूल के चेयरमैन प्रेम कुमार कश्यप ने बताया कि आफिसर्स एनडीए एकेडमी को उन्होंने हास्टल किराये पर दिया था। एकेडमी पर उनका 34 लाख रुपये बकाया है। यह धनराशि मांगने पर एकेडमी के स्टाफ ने बच्चों को कहीं और शिफ्ट कर दिया। हिना के अनुसार एकेडमी ने कई बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है।

राजपुर के थानाध्यक्ष मोहन सिंह ने बताया कि आफिसर्स एनडीए एकेडमी के चेयरमैन विक्रांत चौधरी, उनकी पत्नी नेहा चौधरी, हेड एडमिनिस्ट्रेशन रचना रावत, कोआर्डिनेटर प्रदीप सिंह, विशाल, अमन, सचिन और समीक्षा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *