देश—विदेश

नए राष्ट्रपति के लिए भाजपा में 10 नामों पर मंथन, इन पांच की चर्चा सबसे ज्यादा

देश के सर्वोच्च पद यानी राष्ट्रपति के लिए चुनाव को अब केवल 28 दिन बचे हैं। 18 जुलाई को वोटिंग होगी। जैसे-जैसे चुनाव की तारीख नजदीक आ रही है सियासी गलियारों में हलचल बढ़ती जा रही है।

भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए और कांग्रेस की अगुआई वाले यूपीए में उम्मीदवार को लेकर जोरशोर से मंथन जारी है। सबकी नजर एनडीए के उम्मीदवार पर ही टिकी है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि, आंकड़ों के अनुसार चुनाव में एनडीए अभी मजबूत दिख रही है।

भाजपा में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए 10 से ज्यादा दिग्गजों के नामों पर बातचीत अब भी जारी है। हालांकि, इनमें पांच ऐसे नाम हैं, जिनकी सबसे ज्यादा चर्चा है। ऐसे में आइए जानते है कि भाजपा की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों की दौड़ में कौन-कौन आगे है? चुनाव को लेकर एनडीए में क्या तैयारी चल रही है? 

इन नामों की भी चर्चा:  इनके अलावा कई नामों पर मंथन चल रहा है। उपराष्ट्रपति वैंकैया नायडू का नाम भी चर्चा के केंद्र बिंदु में है। कहा जा रहा है कि वैंकैया नायडू को इस बार राष्ट्रपति बनाया जा सकता है। इसके जरिए भाजपा दक्षिण भारत के राज्यों का सियासी गणित साधने की कोशिश में है। वैंकैया नायडू के नाम पर विपक्ष के कई दल भी समर्थन दे सकते हैं। इसके अलावा आंध्र प्रदेश के राज्यपाल विश्वभूषण हरिचंदन, बिहार के राज्यपाल फागू चौहान, हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन को लेकर भी चर्चा हो रही है।

इसके अलावा किसी सिख को भी राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने की सुगबुगाहट है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस वक्त भाजपा का सिखों पर काफी फोकस है। किसान आंदोलन के बाद सिख समुदाय में भाजपा के प्रति नाराजगी बढ़ गई थी।  ऐसे में संभव है कि सिख चेहरे को राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाया जा सकता है। ऐसे में पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, उत्तराखंड के राज्यपाल लेफ्टिनेंट गुरमीत सिंह का नाम सबसे ज्यादा चर्चा में है।

एक दक्षिण से तो दूसरा उत्तर से हो सकता है
भाजपा के राष्ट्रीय स्तर के एक नेता ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि उम्मीदवार चाहे जो हो, लेकिन यह तय है कि दोनों पदों में से एक पर उत्तर तो दूसरे पर दक्षिण भारत का चेहरा उतारा जाएगा। ऐसा करके उत्तर से लेकर दक्षिण तक के सियासी गणित को साधा जा सकता है।

चुनाव का ये है पूरा कार्यक्रम
राष्ट्रपति पद के लिए होने वाले चुनाव के लिए अधिसूचना 15 जून को जारी हो चुकी है। नामांकन की आखिरी तारीख 29 जून है। नामांकन पत्रों की जांच 30 जून तक होगी। उम्मीदवार अपना नामांकन दो जुलाई तक वापस ले सकेंगे। राष्ट्रपति का चुनाव 18 जुलाई को होगा, जिसके नतीजे 21 जुलाई को आएंगे। 25 जुलाई को नए राष्ट्रपति का पदभार ग्रहण समारोह होगा।

 

Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *