देश—विदेश

आत्मघाती हमलावर की पीएम मोदी के दौरे से पहले बड़ी साजिश हुई नाकाम

जम्मू : जम्मू के बाहरी इलाके में शुक्रवार तड़के सेना के शिविर के समीप आतंकवादियों के सीआईएसएफ की एक बस को निशाना बनाए जाने के बाद अर्द्धसैन्य बल का एक जवान शहीद हो गया . वहीं नौ अन्य घायल बताए जा रहे हैं. हमले के बाद मुठभेड़ जारी है. जम्मू जोन के एडीजीपी मुकेश सिंह ने कहा कि मारे गए आतंकी फिदायीन हमलवार थे. मुठभेड़ स्थल से 2 एके-47 राइफल, हथियार, गोला-बारूद, सैटेलाइट फोन और कई अन्य दस्तावेज बरामद हुए हैं. उन्होंने कहा कि ऑपरेशन अभी जारी है. बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सांबा जिले के निर्धारित दौरे से दो दिन पहले जम्मू-कश्मीर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सुंजवान में मुठभेड़ हुई. जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि पुलिस और सुरक्षाबलों के जवानों ने बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया है. उन्होंने कहा सुंजवान आर्मी कैंप भी आतंकियों के निशाने पर हो सकता था.

जम्मू के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मुकेश सिंह ने कहा कि मुठभेड़ तब शुरू हुई जब पुलिस के विशेष अभियान समूह और सीआरपीएफ ने इलाके में एक संयुक्त तलाशी अभियान शुरू किया. उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में सुरक्षा बल का एक जवान शहीद हो गया और 4 अन्य घायल हो गए. जम्मू के ADGP मुकेश सिंह ने कहा, ‘हमने रात को जम्मू के सुंजवान इलाके में घेराबंदी की थी. हमें आतंकवादियों के छिपे होने की सूचना मिली थी. सुबह घेराबंदी पर फायरिंग हुई जिसमें सुरक्षा बल का एक जवान शहीद हुआ है और 4 जवान घायल हो गये. मुठभेड़ अभी चल रही है. ऐसा लग रहा है कि आतंकवादी किसी घर में हैं.’

वहीं, सीआईएसएफ के अधिकारी ने भी इस बारे में जानकारी साझा की है. सीआईएसएफ अधिकारी ने कहा,’जम्मू के चड्ढा कैंप के पास सुबह करीब सवा चार बजे सीआईएसएफ के 15 जवानों को सुबह की पाली में ड्यूटी पर ले जा रही बस पर आतंकियों ने हमला कर दिया. सीआईएसएफ ने आतंकी हमले को टाला, जवाबी कार्रवाई की और आतंकियों को भागने पर मजबूर किया.’

पाकिस्तान से जुड़े आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (JeM) से संबंधित कम से कम दो आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में एक विशेष सूचना पर एक तलाशी अभियान शुरू किया गया था. आतंकियों के भारी मात्रा में हथियारों से लैस होने की खबर थी. आतंकी सुंजवान सैन्य स्टेशन से सटे आसपास के क्षेत्र में जाने के प्रयास में थे. अधिकारियों ने कहा कि आतंकी शहर में एक बड़े हमले की फिराक में थे.

अधिकारियों ने कहा कि आतंकवादियों ने एक ग्रेनेड फेंका और तलाशी दलों पर गोलियां चलाईं. सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई की जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई. अधिकारियों ने बताया कि इलाके में अतिरिक्त सुरक्षा बलों को भेजा गया है और आतंकवादियों को मार गिराने के लिए अभियान जारी है.

गौरतलब है कि 10 फरवरी 2018 को तीन JeM आतंकवादियों ने सुंजवान आर्मी कैंप पर धावा बोल दिया था और बाद में हुई गोलीबारी में छह सैनिकों सहित सात लोग मारे गए थे. तीनों आतंकियों को भी ढेर कर दिया गया था. 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस पर प्रधानमंत्री का यहां से 17 किलोमीटर दूर पाली गांव में एक सभा को संबोधित करने का कार्यक्रम है.

ज्ञात हो कि अगस्त 2019 में तत्कालीन राज्य के विशेष दर्जे को समाप्त करने और इसके विभाजन के बाद से सीमाओं के अलावा यह पीएम मोदी की पहली जम्मू- कश्मीर यात्रा होगी. उन्होंने 27 अक्टूबर 2019 को राजौरी में और 3 नवंबर 2021 को जम्मू डिवीजन के नौशेरा सेक्टर में सेना के जवानों के साथ दिवाली मनाई थी.

Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *