उत्तराखंड हलचल

सोमवती अमावस्या पर हरिद्वार में 34 लाख श्रद्धालुओं ने किया गंगा स्नान

सोमवती अमावस्या पर गंगा स्नान के लिए सोमवार को आस्था का सैलाब उमड़ा। सुबह से लेकर शाम तक हरकी पैड़ी समेत गंगा घाटों पर हुजूम रहा। 34 लाख श्रद्धालुओं के गंगा में आस्था की डुबकी लगाने से 2021 कुंभ में सोमवती अमावस्या के शाही स्नान की भीड़ का रिकॉर्ड भी टूट गया। हरकी पैड़ी श्रद्धालुओं से ठसाठस भरी रही। श्रद्धालुओं ने स्नान और पूजन कर दान-पुण्य किया। ब्राह्मणों को दक्षिणा दी और गरीबों को भोजना कराया।

कांगड़ा घाट, महिला घाट, मालवीय द्वीप घाट, शिवघाट, सुभाष घाट, गोविंदपुरी घाट, ऋषिकुल घाट, महर्षि कश्यप घाट, प्रेमनगर आश्रम घाट भी स्नान करने वाले श्रद्धालुओं से पैक रहे। पुलिस के मुुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई। पिछले साल कुंभ में सोमवती अमावस्या के शाही स्नान पर 31 लाख 23 हजार श्रद्धालुओं ने डुबकी लगाई थी। जबकि कुंभ में ही महाशिवरात्रि के शाही स्नान पर भी 32 लाख 37 हजार श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान किया था। सोमवार को सोमवती अमावस्या स्नान में श्रद्धालुओं ने कुंभ के शाही स्नानों की भीड़ को भी पीछे छोड़ दिया।

स्नान के बाद श्रद्धालुओं ने धार्मिक अनुष्ठान किए। मां गंगा का दुग्धाभिषेक कर पूजन-अर्चन किया। ब्राह्मणों को दान-दक्षिणा देकर भोजन भी कराया। भोर के साथ ही गंगा के तट पर स्थित देवालय में घंटे घड़ियालों के स्वर गुंजायमान रहे। श्रद्धालुओं ने तीर्थ पुरोहितों के माध्यम से विधि-विधान पूर्वक अपने पितरों का तर्पण कराया। बालक-बालिकाओं के मुंडन संस्कार भी संपन्न हुए। सोमवती अमावस्या पर्व के चलते तीर्थ पुरोहितों कि काफी व्यस्तता रही। उनके चेहरे खिले हुए नजर आए।नारायणी शिला पर रही भीड़ देवपुरा चौक स्थित नारायणी शिला मंदिर पर सुबह तीन बजे से ही लोग लाइनों में लगना शुरू हो गए थे।

सुबह पांच बजे जैसे ही मंदिर के कपाट खुले तो श्रद्धालुओं ने पितर अमावस्या पर पिंडदान व तर्पण आदि कार्य कराए। इसके साथ ही स्थानीय श्रद्धालुओं ने दूध व काले तिलों से नारायणी शिला पर अभिषेक पर देव-पितरों से आशीर्वाद बनाए रखने की कामना की। तीन बजे से ही खुल गए थे बाजार धर्मनगरी के बाजार सुबह सात बजे के बाद ही खुलने शुरू होते हैं और रात में 12 बजे बंद होते हैं। मगर सोमवार की सुबह तीन बजे से ही अपर रोड समेत अन्य बाजारों में दुकान खुलनी शुरू हो गई थी। सुभाषघाट पर तो रात भर दुकानें खुली रहीं।

Share this:

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *